1. लाइफ स्टाइल

त्रिफला चूर्ण (Triphala Powder) बनाने की विधि, फायदे एवं नुकसान

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Triphala Powder

Triphala Powder

हम सभी आयुर्वेद की बात करते हैं, जिसमें कई बार “त्रिफला” (Triphala) शब्द का ज्रिक होता है. यह एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है, जो कि तीन फलों के मिश्रण का औषधीय समूह है. इसका उपयोग हजारों सालों से किया जा रहा है. इसका उपयोग विविध परिस्थितियों में किया जाता है. आज हम इस लेख में त्रिफला चूर्ण के बारे में बताने जा रहे हैं. जैसे- त्रिफला चूर्ण (Triphala Powder) बनाने की विधि, फायदे और नुकसान-

त्रिफला क्या होता है? (What is Triphala?)

त्रिफला दो शब्दों से मिलकर बना है– त्रि अर्थात तीन और फला अर्थात फल. इसे अंग्रेजी में The three fruits भी कहा जाता है. आयुर्वेद में बताया गया है कि त्रिफला तीन औषधीय गुणों वाले फलों सो मिलकर बनता है. जैसे, आंवला, बहेड़ा (बिभीतक) और हरड़ (हरीतकी). त्रिफला इनके मिश्रण से बना हुआ एक यौगिक निरूपण (Compound Formulation) है. इसके सेवन से कई शारीरिक रोगों से छुटकारा मिलता है. त्रिफला बाजार में कई अलग-अलग फ़ॉर्मूलेशन्स में उपलब्ध होता है. जैसे- त्रिफला चूर्ण, त्रिफला टेबलेट्स और त्रिफला सीरप आदि.  

त्रिफला चूर्ण बनाने के लिए फल (Fruits for making Triphala Powder)

  • आंवला (Emblica officinalis)

  • बहेड़ा (Terminalia bellirica)

  • हरड़ (Terminalia chebula)

त्रिफला चूर्ण बनाने की विधि (How to make Triphala Powder)

  • सबसे पहले इन तीनों फलों को 3 से 4 दिन तक सूर्य के प्रकाश में सूखाएं.

  • इसके बाद बीज निकालकर तीनों फलों के गर्भ को ग्राइंडर की मदद से अच्छी तरह ग्राइंड करें.

  • अब तीनों फलों को 3:2:1 भागों में अच्छे से मिला दें.

  • इस तरह आपका त्रिफला चूर्ण तैयार हो जाएगा.

  • अब उसे एयर टाइट कंटेनर में पैक करके रख दीजिए.

त्रिफला चूर्ण के सेवन का फायदा (Benefits of consuming Triphala Powder)

पाचन क्रिया बढ़ाए (Improve Digestion)

जिनकी पाचन शक्ति बहुत कमजोर होती है, उन लोगों के लिए त्रिफला चूर्ण का सेवन बहुत ही बेहतरीन उपाय रहता है. यह न सिर्फ पाचन शक्ति को दृढ़ बनाता है, बल्कि पेट संबंधित कई परेशानियों को दूर करता है.

आंखों के लिए औषधि (Eye Medicine)

आंखों के लिए त्रिफला टॉनिक की तरह काम करता है, साथ ही आंखों के लेंस में मौजूद ग्लूटाथिओन नाम के एंटी ऑक्सीडेंट को बढ़ाता है. इसके साथ ही लालिमा और मोतियाबिंद की समस्या में त्रिफला चूर्ण का सेवन लाभकारी होता है.

वजन घटाए (Lose Weight)

त्रिफला चूर्ण का सेवन शरीर में मौजूद फैट को कम करता है और वजन घटाने में मदद करता है. आप त्रिफला को गर्म पानी में मिलाकर दिन में 2 से 3 बार पी सकते हैं.

हृदय को रखे स्वस्थ  (Keep Heart Healthy)

त्रिफला चूर्ण का सेवन रक्तचाप को नियंत्रित रखता है. इसके साथ ही ह्रदय की सुरक्षा करता है. इतना ही नहीं, यह कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है.

वायरस और बैक्टीरिया से सुरक्षा  (Protection against viruses and bacteria)

त्रिफला चूर्ण के अंदर एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायल और एंटी-पायरेटिक गुण पाए जाते हैं, जो कि शरीर को वायरस और बैक्टीरिया से बचाता है.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए  (Increase Immunity)

त्रिफला चूर्ण का सेवन इम्यूनिटी बढ़ाता है, क्योंकि इसके अंदर गैलिक एसिड और एलेजिक एसिड मौजूद होते हैं, जो कि शरीर के लिए फायदेमंद है.

डायबिटीज में फायदेमंद  (Beneficial in Diabetes)

अगर किसी को डायबिटीज की समस्या है, उन लोगों को त्रिफला चूर्ण का सेवन करना चाहिए. इसकी मदद से ब्लड ग्लूकोज लेवल कम होता है.

घाव को ठीक करे  (Heal the wound)

अगर आपको चोट या घाव हो जाए, तो आप त्रिफला चूर्ण का सेवन करके उसे ठीक कर सकते हैं. एक शोध में बताया गया है कि त्रिफला पेट्रोलियम जेली और तिल से ज्यादा प्रभावी होता है.

ब्लड सरकुलेशन के लिए लाभकारी (Beneficial for Blood Circulation)

यह हमारे ब्लड सरकुलेशन को बेहतर बनाता है. यह शरीर में खून के निरंतर प्रवाह को बनाए रखता है, जिससे शरीर के हर एक हिस्से में ऑक्सीजन पहुंचता है.  

जोड़ों के दर्द और गठिया से दिलाए राहत  (Provides relief from joint pain and arthritis)

यह जोड़ों में दर्द और गठिया की परेशानी से राहत दिलाता है. आप एक चम्मच त्रिफला चूर्ण को एक गिलास पानी में मिलाकर पिएं. इससे इन समस्याओं से राहत मिलेगी.

कैंसर के खतरे को कम करे (Reduce the risk of cancer)

त्रिफला चूर्ण बहुत प्रभावशाली है. इसके अंदर एंटी-कैंसर गुण भी पाए जाते हैं, जो कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचाते हैं.

त्वचा की सेहत के लिए फायदेमंद  (Beneficial for Skin Health)

त्रिफला के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी पाया जाता है, जिससे त्वचा सेहतमंद और जवां रहती है. यह एजिंग की समस्या को भी दूर करता है.

चमकदार बालों के लिए इस्तेमाल  (Used for Shiny Hair)

अगर आप काले, लंबे, घने और चमकदार बाल पाना चाहती हैं, उन्हें त्रिफला चूर्ण का सेवन करें.

त्रिफला चूर्ण के नुकसान (Side effects of Triphala Powder)

त्रिफला के कई फायदे और उपयोग होते हैं, लेकिन अगर ज्यादा उपयोग किया जाए, तो कई साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है. ऐसे में इसका उपयोग सावधानी से करना चाहिए. इसका सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह पर ही करना चाहिए. इसके ज्यादा सेवन से कई तरह के नुकसान हो सकते हैं.

  • लूज़ मोशन

  • ब्लड शुगर लो होना

  • गर्भ पर गंभीर असर पड़ना                                                  

English Summary: triphala powder making method, its advantages and disadvantages

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News