Editorial

14 Aug, 2018
By prashant
For more income and environmental protection, cultivate this

अधिक आय और पर्यावरण सुरक्षा के लिये, खेती ऐसे करें - डॉ. अशोक कुमार

परम्परागत कृषि में खरपतवार नियंत्रण, अच्छी बुआई तथा जमीन में वायु संचार तथा जल संरक्षण हेतु अधिक जुताई पर जोर दिया जाता रहा है। बदलते कृषि परिवेश में मृदा में कार्बनिक पदार्थ की कमी होने, कृषि लागत में बढ़ोतरी तथा खरपतवारों के नियन्त्रण हेतु अन्य विकल्प उप…

READ MORE
14 Aug, 2018
By prashant
Advanced species of secondary algebraic spices

गौण बीजीय मसालों की उन्नत प्रजातियाँ - ललित कुमार वर्मा

मसालों के उत्पादन में भारत ने एक मिसाल कायम किया है. भारत के मसालों का पूरे विश्व में बोल बाला है. मसालों के उत्पादन एवं उपयोग में भारत पूरे विश्व में प्रथम स्थान पर है. देश के लगभग सभी राज्यों में मुख्य एवं गौण बीजीय मसालों की खेती की जाती है. बीजीय मसाल…

READ MORE
14 Aug, 2018
By prashant
Various Benefits of Sahajan (Munaga)

सहजन (मुनगा) के विभिन्न फायदे - ललित कुमार वर्मा

सहजन (मुनगा) लम्बी फलियों वाली एक सब्जी का पेड़ है जो भारत के साथ-साथ अन्य कई देशों में उगाया जाता है. सहजन के बारे में विज्ञान में प्रमाणित किया गया है कि इस पेड़ का हर अंग स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभदायक है. इसे अग्रेजी में मोरिंगा तथा ड्रमस्टिक ट्री कह…

READ MORE
11 Aug, 2018
By prashant
How farmers of MP are increasing using modern methods of production and income

कैसे मप्र के किसान आधुनिक पद्धतियों का उपयोग करके बढ़ा रहे हैं उत्पादन और आमदनी - Ramesh Anjan

देश की वर्तमान जनसंख्या 1.35 अरब से अधिक है, जो एक अनुमान के अनुसार 2025 तक विश्व में पहले स्थान पर पहुंच जाएगी। इस प्रकार निरंतर बढ़ती जनसंख्या की खाद्यान्न की आवश्यकता पूर्ति हेतु हमें देश में खाद्यान्न की उत्पादन सन् 2025 तक 380 मि. टन और सन् 2050 तक 48…

READ MORE
11 Aug, 2018
By prashant
How important is the cultivation of polyhouse for farmers!

किसानो के लिए पोलीहॉउस खेती कितनी जरूरी ! - चंद्र मोहन

जब से धरती की उत्पति के बाद से मानव जाती ने प्रकृति में अपने आसपास पेड़ पौधों को उगते देखा तो जहाँ उसकी आँखों को यह नजारा अच्छा लगा वहीँ मानव ने कुत्छ फलों व पत्तों को जब खा कर देखा तो वह भी उसको पसंद आये.

READ MORE
11 Aug, 2018
By prashant
Sojaboon-tonic-spray is uiterst gunstig in katoengewassen

कपास की फसल में सोयोबीन टॉनिक का स्प्रे है अत्यंत लाभकारी - नारायण लाल धाकड़

देश में कपास की खेती काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है. देश में किसान काफी संख्या में कपास की खेती करते हैं. कपास की खेती मुख्य तौर पर महाराष्ट्र, हरियाणा, गुजरात, उत्तर प्रदेश में की जाती है. इस वक्त कपास की फसल तीन महीने की हो चुकी है, इस वक्त फसल में फूल आ …

READ MORE
09 Aug, 2018
By prashant
Importance of Plant Pathology in Plant Quarantine

पादप रोग विज्ञान का वनस्पति संगरोध में महत्व - डॉ० चन्दन कुमार सिंह

पादप रोग विज्ञान अनुप्रयुक्त (अप्लाइड) विज्ञान की वह शाखा है जिसके अंतर्गत पादप रोगों के कारकों, रोग हेतु विज्ञान, उनके परिणाम स्वरूप हुई हानियों एवं प्रबंधन का अध्ययन किया जाता हैं. प्राचीन काल से ही मनुष्य अपने साथ विभिन्न पौधों, बीजों तथा रोपण पदार्थों…

READ MORE
09 Aug, 2018
By prashant
Farmers' income and human health are harmful to both, the protection of fish by pharmacines

किसानों की आय और मानव स्वास्थ्य दोनों के लिए हानीकारक है फार्मेलीन द्वारा मछलीयों का संरक्षण - पवन कुमार शर्मा

फार्मेलीन एक रंगहीन द्रव है जो कि फार्मेलीहाइड के जलीय विलयन से बनाया जाता है. सामान्य तौर इसका उपयोग प्रयोगशालाओं मे मरे हुये जन्तुओं को सड़ने से बचाने के लिए किया जाता है. किन्तु इसकी सुयोग्य संरक्षण क्षमता की वजह से आजकल मांस का व्यापार करने वाले व्यवस…

READ MORE
09 Aug, 2018
By prashant
Contribution of Vegetable Quarantine in Vegetable Conservation

वनस्पति संरक्षण में वनस्पति संगरोध का योगदान - डॉ. चन्दन कुमार सिंह

वनस्पति संरक्षण से तात्पर्य प्रयोग मे आने वाली फसलों को हानिप्रद जीवों से रक्षा करना है. इसके अंतर्गत ऐसे उपायों को काम मे लाया जाता है जिनका प्रयोग करके विभिन्न प्रकार के फसलों, फलो तथा संग्रहीत अनाजों को नुकसान पहुँचाने वाले कीटों व अन्य हानिकारक जीवों,…

READ MORE
08 Aug, 2018
By prashant
Advanced farming of baby corn maize

बेबी कॉर्न मक्के की उन्नत खेती - डॉ. चन्दन कुमार सिंह

बेबी कॉर्न मक्के के भुट्टे की प्रारम्भिक अवस्था है जिसमें भुट्टे के परगन से पहले की कोमल अवस्था में तोड़ लिया जाता है. जिसे बेबी कॉर्न कहते है इसमें 2 से 3 सेन्टीमीटर तक सिल्क (बालयामोचा) निकले रहते है, इसकी तुड़ाई सिल्क निकलने के 1 से 2 दिन के अन्दर कर …

READ MORE