1. ख़बरें

धारा 370 हटने पर पाक खिसयानी बिल्ली, भारत के साथ किया कारोबार खत्म

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद एक तरफ जहां भारत में राजनीतिक सर्गमियां अपने उफान पर है, वहीं पाकिस्तान में सियासी भूकंप आया हुआ है. भारत के ऐतिहासिक फैसले के खिलाफ विश्व से किसी तरह की मदद ना मिलते देख अब पाकिस्तान ने आनन-फानन में द्विपक्षीय व्यापार को सस्पेंड कर दिया है. इतना ही नहीं खिसयानी बिल्ली खंभा नोचे वाले मुहावरे को सच करते हुए उसने सीज  फायर का उल्लंघन करना भी शुरू कर दिया है. खबरों के मुताबिक पाकिस्तान ने राजौरी के सुंदरबनी सेक्टर में ताबड़तोड़ फायरिंग की है, जिसका भारतीय सेना ने मुंह तोड़ जवाब दिया है.

इस मामले को लेकर पाकिस्तान की तड़प का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने भारत से किसी भी तरह के व्यापारिक रिश्ते रखने से मना कर दिया है. इतना ही नहीं धारा 370 हटाए जाने को लेकर पाक ने अब सीजेआई और यूएन जाने का भी मन बना लिया है. बता दें कि पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार ना करने का फैसला ऐसे समय में लिया है, जब उसकी अर्थव्यवस्था पहले से ही लड़खड़ा रही है.

कितना होगा भारत को नुकसान

पाकिस्तान द्वारा भारत के साथ किसी तरह का व्यापार ना करने से हमे किसी तरह का आर्थिक नुकसान नहीं होने वाला है. इस मामले पर विशेषज्ञों की माने तो पुलवामा हमले के बाद से वैसे भी भारत-पाक के मध्य व्यापार नाम मात्र ही हो रहा है. एक तरफ भारत ने पहले ही पाक से जहां मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीन लिया है, वहीं विश्व बिरादरी में भी उसे अलग-थलग कर दिया है.

पाक की इस हरकत पर भारत ने क्या कहा

भारत ने पाक को जवाब देते हुए साफ कह दिया है कि धारा 370 के मामले पर उसने फैसला ले लिया है और अब वो किसी तरह का समझौता करने को तैयार नहीं है. बता दें कि गृह मंत्र अमित शाह ने अपने एक एक बयान में ये भी बोल चुके हैं कि "मैं जम्मू-कश्मीर कहता हूं तो उसमें पाक अधिकृत कश्मीर और अक्साई चीन भी शामिल है. पाक अधिकृत कश्मीर (PoK)  और अक्साई चीन भारत के अभिन्न अंग हैं और हम इसके लिए जान भी दे देंगे". जिसके बाद से पाकिस्तान में हड़कंप मचा हुआ है.

English Summary: Pakistan banned all trades relations with india after 370 scrapped

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News