1. ग्रामीण उद्द्योग

Rural Business Idea: गांव के युवा शुरू करें ये 5 बिजनेस, होगा बेहतर मुनाफ़ा !

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
bulf

अक्सर गांव के युवा शहर में जाकर अपना खुद का बिजनेस शुरू करते हैं, क्योंकि वहीं बिजनेस के कई बेहतर विकल्प होते हैं. मगर अब समय बदल गया है. देश पर ऐसा कोरोना संकट छाया है कि गांव से जाकर शहर में रहने वाले अधिकतर लोगों ने घर वापसी कर ली है. ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि घर वापसी कर तो ली है, लेकिन परिवार का पालन-पोषण कैसे किया जाएगा? अगर आप भी इस बात को सोचकर परेशान हो रहे हैं, तो हम आपकी परेशानी का समाधान आज और इसी वक्त कर देते हैं. शायद आपको पता नहीं है कि बिजनेस के जितने विकल्प शहरों में होते हैं, उससे एक दो ज्यादा ही गांव के लिए भी होते हैं. ऐसा नहीं हैं कि शहरों में बिजनेस करने के विकल्प ज्यादा होते हैं और गांव में नहीं. आज हम आपके साथ कुछ बिजनेस आइडिया (Business Idea) शेयर करने जा रहे हैं, जिनको शुरू करने के लिए आपको शहर जाने की कोई आवश्कता नहीं पड़ेगी. इन्हें गांव में ही रहकर आसानी से शुरू किया जा सकता है.

Aata chaki

आटा चक्की

शहरी क्षेत्रों में लोग गेंहू, चावल, दाल आदि राशन का स्टॉक नहीं रखते हैं, इसलिए वह पिसा आटा, धुली और सूखी दाल आदि का उपयोग करते हैं, मगर गांव में इसका एकदम उटला होता है. यहां लोग गेंहू, चावल, दाल को खरीदकर स्टॉक करके रखते हैं. ऐसे में उन्हें कुछ दिनों में आटा पिसवाने की ज़रूरत पड़ती है और इसके लिए वह आटा चक्की की तरफ रूख करते हैं. बस यही आटा चक्की आपको एक अच्छा रोजगार देगी. बता दें कि आजकल आटा चक्की की मांग भी बढ़ गई है. खास बात है कि अगर आप गांव में आटा चक्की लगाते हैं, तो आटे के साथ- साथ बेसन, हल्दी, मिर्ची, मक्का, धनिया आदि भी पीस सकते हैं. गांव में इस बिजनेस को शुरू करके आप रोजाना हजार रुपए तक की कमाई कर सकते हैं.

खुदरा दुकान

गांव में खुदरा दुकान खोलना एक बहुत ही अच्छा विकल्प है. इसके तहत आप कपड़ें की दुकान, किराने की दुकान, नाई की दुकान, सिलाई की दुकान, हार्डवेयर की दुकान आदि खोल सकते हैं. यह काफी अच्छा मुनाफ़ा देने वाला बिजनेस है. इसके आप गांव में रहकर मिठाई, फल और सब्जी की दुकान भी खोल सकते हैं. ये सभी खुदरा दुकानों के तहत आते हैं. गांव में रहकर इन सभी बिजनेस से अच्छा मुनाफ़ा कमाया जा सकता है. इसमें लागत भी काफी कम लगती है.

रेशम उत्पादन

यह एक कुटीर उद्योग की श्रेणी में आता है. इसका उत्पादन रेशम के कीड़ों का पालन करके होता है. ये कीड़ें कई तरह के होते हैं. इनका उत्पादन बहुत कम लागत में किया जा सकता है. यह एक कृषि पर आधारित व्यवसाय हैं. बता दें कि कई लोग रेशम के कपड़े लोगों को पहनना पसंद करते हैं. यह चमकीला, रेशेदार और काफी आरामदायक होता है. आप रेशम का उत्पादन काफी कम पूंजी में शुरू कर सकते हैं  और अच्छा मुनाफ़ा कमा सकते हैं. 

झाड़ू बनाने का बिजनेस

यह एक ऐसा उत्पाद है, जिसका उपयोग हर घर, दुकान, ऑफिस में किया जाता है. इसको सफाई करने में उपयोग किय जाता है. सभी जानते हैं कि सफाई का काम 1-2 दिन का नहीं होता है, ये तो हर रोज का काम है. ऐसे में इस उत्पाद की मांग हमेशा बाजार में बनी रहती है, इसलिए आइ दिन इस उत्पाद को खरीदते हैं. अगर आप गांव में रहकर इस बिजनेस को शुरू करते हैं, तो काफी मुनाफ़ा कमा सकते हैं. इसमें आप घास, नारियल या खजूर के पत्ते, कॉर्न हस्क आदि से निर्मित झाड़ू बेच सकते हैं. इसके अलावा हाथों से बनी झाड़ू भी बेच सकते हैं. इतना ही नहीं, बाजार में झाड़ू बनाने की मशीनें भी उपलब्ध कराई जाती हैं. खास बात है कि इस बिजनेस को कम लागत में आसानी से शुरू किया जा सकता है. अगर आप किसी नए बिजनेस की तालाश में हैं, तो इस विकल्प का चुनाव कर सकते हैं. यह मुनाफ़ा कमाने का अच्छा जरिया है.

थ्रेशिंग मशीन को किराए पर देने का बिजनेस

अगर आपके पास इतनी पूंजी हैं कि आप ट्रेक्टर, थ्रेशिंग मशीन, बीज बोने की मशीन, सिंचाई की मशीन, खेत जोतने की मशीन में से कई भी खरीद सकते हैं, तो आपको पैसा कमाने के लिए शहर नहीं की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. अब आप सोच रहे हैं कि ऐसा कैसे हो सकता है? बता दें कि गांव में रहने वाले कई किसानों के पास इतने पैसे नहीं होते हैं कि वह इन सब मशीनों को खरीद पाएं. ऐसे में आप इन मशीनों को किराए पर उठा सकते हैं. इससे किसान खेती भी कर पाएंगे, साथ ही आपको रोजगार भी मिल पाएगा. अगर आपके पास मशीनें हैं, तो आप उन्हें किराए पर देकर अच्छा पैसा कमा सकते हैं. जाहिर सी बात है कि अगर आपके पास कई तरह की मशीनें होंगी, तो पैसा भी ज्यादा कमा पाएंगे. 

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News