1. ग्रामीण उद्योग

15 हजार की लागत में शुरू करें झाड़ू बनाने का बिजनेस, होगा अच्छा मुनाफा

Broom

भारत में प्राकृतिक झाड़ूओं का अपना ही महत्व है. हमारे यहां विशेष प्रकार की ब्रूम झाड़ूओं का चलन है, जिसमें सबसे अधिक लोकप्रिय घास, नारियल, खजूर के पत्ते, कॉर्न हस्क आदि से बनने वाले झाड़ू आते हैं. झाड़ू उन उत्पादों की श्रेणी में आता है, जिसकी मांग वर्ष भर लगभग एक जैसी ही बनी रहती है. 

ऐसे में आप भी झाड़ू बनाने के बिज़नस से अच्छा पैसा कमा सकते हैं. इस काम को करने के लिए आपको बहुत अधिक जगह की जरूरत नहीं है. आप इस काम को 50 वर्ग मीटर की जगह से भी कर सकते हैं. सबसे खास बात तो यही है कि इसके लिए विशेष तरह की जगह की भी जरूरत नहीं है, गांव या शहर कहीं से भी इस काम को शुरू किया जा सकता है.

झाड़ू बनाने की मशीन (Broom making machine)

वैसे तो झाड़ू को आम तौर पर कारीगर ही तैयार करते हैं, लेकिन कम समय में अधिक उत्पादन करना है, तो मशीनों को खरीदा जा सकता है. मशीनों का चयन आप ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल या खुद बाजार जाकर भी कर सकते हैं.

झाड़ू बनाने की विधि

झाड़ू को कई तरह से बनाया जा सकता है. आपको तय करना है कि आप किस तरह का झाड़ू बनाना चाहते हैं. हालांकि इसे बनाने के लिए आम तौर पर कच्चे माल के रूप में ब्रूम हैंडल केप, प्लास्टिक टेप, स्ट्रापिंग वायर आदि की जरूरत पड़ती है.

झाड़ू की मांग

हमारे देश में सबसे अधिक मांग सिंक झाड़ू (हार्ड ब्रूम) एवं फूल झाड़ू (सॉफ्ट ब्रूम) की है. इन झाड़ूओं का निर्माण अधिकतर हाथों से ही होता है. हालांकि बदलते हुए समय के साथ बिजली से चालित उपकरण भी चलन में आ गए हैं, जो साफ-सफाई को अधिक सरल बना देते हैं. लेकिन झाड़ू सस्ता एवं सुलभ संसाधन है.

पूंजी और लाभ

इस काम को महज 15 हजार की पूंजी में शुरू किया जा सकता है, जबकि औसत लाभ की बात करें, तो प्रति महीने करीब 40 हज़ार रुपए की कमाई हो सकती है.

(आपको हमारी खबर कैसी लगी? इस बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें. इसी तरह अगर आप पशुपालन, किसानी, सरकारी योजनाओं आदि के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो वो भी बताएं. आपके हर संभव सवाल का जवाब कृषि जागरण देने की कोशिश करेगा)

English Summary: earn huge profit by broom making business know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News