आटा चक्की लगाकर करे अच्छी कमाई...

ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोग अक्सर व्यवसाय की तलाश में शहर का रुख करते हैं. इसका कारण यह है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार की कम उपलब्धता. हालांकि यह बात कुछ हद तक सही है क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रो में रोजगार के अवसर तो बहुत कम है. सिर्फ खेती, पशुपालन जैसे जरिए ही हैं जिससे ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगो की आजीविका चल पाती है. लेकिन वही थोड़ा सा अपनी सोच को बड़ा कर ले तो कुछ और व्यवसाय के जरिए वो लोग अच्छी आय अर्जित कर सकते हैं. ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगो के लिए व्यवसाय के अवसर है. ऐसे में हम आपको बता रहे हैं ग्रामीण क्षेत्र के एक ऐसे व्यवसाय के विषय में जिससे किसान आसानी अच्छी कमाई कर सकते हैं.यह व्यवसाय है आटा चक्की व्यवसाय.

खाने की जरुरत हर किसी को होती है सभी आटे की रोटी खाते है ऐसे में आटा हर किसी की जरुरत है. इसलिए यह एक अच्छा व्यवसाय है, जिसको कम पूँजी लगाकर शुरू किया जा सकता है.

कैसे करे शुरुआत : ऐसा नहीं है कि इस व्यवसाय के लिए किसी भी ख़ास प्रशिक्षण की आवश्यकता होना अनिवार्य है. कोई भी सामान्य व्यक्ति इस व्यवसाय का आरम्भ कर सकता है. यदि किसी को लगता है कि इस व्यवसाय को शुरू करने से पहले उसको थोड़ी जानकारी की जरुरत है इसके लिए वो किसी व्यावसायिक कंसल्टेंसी से सलाह ले सकते हैं, या फिर भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय द्वारा संचालित प्रशिक्षण कार्यों में हिस्सा ले सकते हैं. यह प्रशिक्षण बहुत ही कम शुल्क पर कराया जाता है. यहाँ से प्रशिक्षण लेकर भी इस व्यवसाय को आसानी से शुरू किया जा सकता है. 

मशीनरी एवं कच्चा माल : इस व्यवसाय की शुरुआत सोच पर निर्भर करती है कि आप किस स्तर पर इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं. यदि आप एक छोटे स्तर पर व्यवसाय को शुरू करना चाहता है तो इसके लिए छोटी आटा पिसाई की मशीन लगाकर शुरू किया जा सकता है. यदि आप दो छोटी अनाज पिसाई मशीन लगाते हैं तो इनकी कीमत 25000 से 30000 रूपये तक आ जाती है. इसके अलावा बिजली का बिल और मोटर की कीमत लगाकर यह पूरा बारदाना 50,000 के आस-पास हो जाता है. इसके बाद आप अपने गावों और आस-पड़ोस के गावों की आटा पिसाई शुरू करके कमाई कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें : पापड़ व्यापार करेगा मालामाल

अधिक मुनाफे के लिए : यदि आप इससे अधिक मुनाफा इस व्यवसाय लेना चाहते है तो फिर आपको थोडा बड़ा सोचना पड़ेगा. इससे अधिक मुनाफा लेने के लिए आपको एक बड़ी चक्की लगानी होगी. इसके लिए कुछ मुख्य तथ्यों को ध्यान में रखे.

जगह का चुनाव : व्यवसाय को शुरू करने के लिए ऐसे स्थान का चुनाव करें जो शहर या कस्बें के थोडा नजदीक हो. इससे आपको दोगुना फायदा मिलेगा.

मशीनरी : आटा चक्की व्यवसाय को बड़े पैमाने पर करने के लिए कम से कम 4 आटा पिसाई मशीन को लगाने की आवश्यकता है. 4 पिसाई मशीन लगाने के लिए कम से 1.50 से 2 लाख तक का खर्च आ जाता है. इस समय जितना कच्चा माल यानि गेहूं अधिक मात्रा में आपके पास होगा उतना ही ज्यादा अच्छा है. इसके लिए आप सीजन में कच्चा माल स्टोर करके रख सकते हैं. कच्चा माल आपको अन्य क्रेताओं से भी खरीदना पड़ता है. ऐसे में कम से कम 1 लाख रुपए का बजट आपके पास होना अनिवार्य है. कुल मिलाकर आपको लगभग साढ़े तीन लाख का बजट लेकर चलना जरुरी है. 

नोट : किसान भाइयों कृषि क्षेत्र की सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पत्रिका कृषि जागरण को आप ऑनलाइन भी सब्सक्राइब कर सकतें है. सदस्यता लेने के लिए क्लिक करें...

 

बाजार :  यदि आप सिर्फ आटा पिसाई करते हैं तो आपको किसी बाजार की कोई आवश्यकता नहीं है. लेकिन आप आटा पिसाई करके अपने ब्रांड नाम से आटा सप्लाई करके का सोच रहें हैं तो आपको आवश्यकता है कि आप शहर या कस्बें का बाजार चुने क्योंकि शहर या कस्बें में तो कोई गेहूं उत्पादन नही होता है. ऐसे में आप छोटे शहरों और कस्बों में आटे को सप्लाई करके अपना ब्रांड शुरू कर सकते हैं. इससे और अधिक व्यवसाय और आय के अवसर बढ़ जाते हैं.

यदि खुले आटे की बात करें तो अभी 20 रूपये प्रतिकिलो इसकी कीमत है और 50 किलो आटे के कट्टे की कीमत लगभग 800 से 900 रूपये प्रति कट्टा होती है. यदि व्यवसायी एक दिन में 50 किलो के 200 कट्टे भी सप्लाई करता है तो उसकी कुल बिक्री 200 कट्टे X 800 रुपए = 1,60,000 रुपए.

इसमें से यदि 1,40,000 लागत कम कर दी जाए तो फिर भी 20,000 रुपए की बचत आसानी की जा सकती है.इसमें आसानी से लेबर और सभी खर्चे कम करके आसानी से अच्छी कमाई की जा सकती है. 

नोट : यह सिर्फ एक सामान्य जानकारी है, अधिक जानकारी के लिए आप सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग प्रशिक्षण संस्थान में संपर्क कर सकते हैं. 

Neeraj Sharma, Assistant Director (C&T)/Incharge
Telefax: 011-23414364, Telephone: 011-23413311

E-mail: msmedidelhi@gmail.com 

http://www.msmedinewdelhi.gov.in/en/MSME-DI-EC%20TEST.ASP

सम्बंधित ख़बरें :

वाशिंग डिटर्जेंट पाउडर बनाने की विधि

मिट्टी की जांच करने का बिज़नेस (SOIL TESTING LAB BUSINESS IN HINDI)

ब्यूटी पार्लर स्थापित कर ग्रामीण महिलाऐं भी बन रहीं आत्मनिर्भर

मोमबत्ती बनाकर लाखों कमाएं

बेसन पैकिंग कर आत्मनिर्भर बने

धूपबत्ती उद्द्योग की जानकारी

Comments