विलोवुड ने लॉन्च किए चार नए उत्पाद

विलोवुड क्रॉप साइंसेस प्राइवेट लिमिटेड ने हाल ही में जयपुर में, होटल क्लार्क्स आमेर में बिजनेस पार्टनर मीट-2018, का आयोजन किया, जिसमें राजस्थान के 200 वितरको को आमंत्रित किया . इस अवसर पर, विलोवुड ने चार नए उत्पाद  “टेकनोक्स”, “इनोवेक्सिया”, “टारेट”, व “इंडिका” लॉन्च किए, जिसमें “टेकनोक्स” व “इनोवेक्सिया” कम्पनी के पेटेंट प्रोडक्ट हैं . विलोवुड  ने अपना पहला पेटेंट प्रोडक्ट “वेलेक्स्ट्रा” पिछले बर्ष 2017 में लॉन्च किया था . एक और नया पेटेंट उत्पाद “एक्जोटिका” जल्द ही इसी वर्ष लॉन्च होगा. बिजनेस पार्टनर मीट-2018 का उद्घाटन विलोवुड के डायरेक्टर हितेश बागरी, बिजनेस हेड राकेश बिष्ट, डीएम (मार्केटिंग) विवेक रस्तोगी, व रीजनल मेनेजर सुरेश शर्मा ने दीप प्रज्ज्वलित  कर किया .

विलोवुड के डायरेक्टर हितेश बागरी ने कंपनी के अब तक के सफर पर प्रकाश डाला और बताया की कंपनी की शुरुआत वर्ष 1992 में हाँगकांग से हुई थी . विलोवुड का व्यापार 50 से अधिक देशों में फैल चुका है. वर्ष 2006 में कंपनी ने भारत में व्यापार की नींव रखी थी तथा वर्ष 2012 में कंपनी ने भारत में ब्रांड बिजनेस आरंभ किया . विलोवुड एक तीव्र गति से उभरती हुई कृषि क्षेत्र की अग्रणी कंपनी है. वित्तीय बर्ष 2017-18 में कंपनी ने, भारत में, 1200 करोड़ का टर्न-ओवर किया है. उन्होंने बताया की फिलहाल विलोवुड के पास कुल 65 उत्पाद है जिनमे से 26 उत्पादों के टेक्निकल के निर्माण की स्वयं की क्षमता है. उन्होंने बताया कि विलोवुड भारत में भी एक टेक्नीकल प्लांट स्थापित कर रही है.

विलोवुड के डायरेक्टर हितेश बागरी  ने वितरकों को संबोधित करते हुए बताया कि विलोवुड को वर्ष 2012 में ही आइ.एस.ओ. 9001:2008 , आइ.एस.ओ. 14001: 2004, ओएचएसएएस 18001:2007 के द्वारा अधिप्रमाणित किया गया. वर्ष 2015 में विलोवुड को एन.ए.बी.एल. प्रमाण पत्र मिला. वर्ष 2018 में विलोवुड के जे.डी.एम. अनुसंधान केन्द्र को .पी.एल. प्रमाण पत्र मिला है .

बिजनेस हैड  राकेश विष्ट ने वितरकों को संबोधित करते हुए, व्यापार को बढाने व नयी सोच के साथ उर्जावान तरीके से व्यापार करने के लिए  प्रेरित किया.

विलोवुड ने अपने नय पेटेंट प्रोडक्टस का लाँच ड्रोन के द्वारा बढे ही सुन्दर ढंग से किया . प्रोडक्ट लाँच के पश्चात, डी.एम. मार्केटिंग  विवेक रस्तोगी  ने “टेकनोक्स”, “इनोवेक्सिया”, “टारेट”, व “इंडिका” उत्पादों  की तकनीकी जानकारी दी . रस्तोगी ने वताया की विलोवुड के वैज्ञानिकों ने “टेकनोक्स”में उपस्थित रसायन को एक विशेष फार्मूलेशन (डव्लू. डी.)  में विकसित करने में सफलता पायी है, जो अपने आप में एक अभूतपूर्व उपलव्धि है . “टेकनोक्स”, रो सेडीमेंटेशन टेक्नोलो पर आधारित, एक उच्च घुलनशीलता वाला बहुआयामी कीटनाशक है जो स्पर्शिय क्रिया द्वारा कीटों पर त्वरित नियंत्रण करता है. टेकनोक्स का प्रयोग धान की फसल में तना छेदक व पत्ता लपेट इल्ली के प्रबंधन के लिए 600 ग्राम प्रति एकड़ की दर से किया जा सकता है. विभिन्न फसलों में विभिन्न कीटों पर कम्पनी के डेवलपमेंट ट्रायल्स चल रहे हैं . डेवलपमेंट ट्रायल्स में सोयाबीन के गर्डल बीटल (रिंग कटर), सेमीलूपर तथा अन्य कई फसलों में लगने वाले कीटों पर अच्छे परिणाम सामने आयें हैं .

विलोवुड का दूसरा पेटेंट उत्पाद“इनोवेक्सिया” भी एक बहुआयामी कीटनाशक है जो रस चूषक कीटों के साथ-साथ काटकर खाने वाले कीटों पर प्रभावी, त्वरित, व लम्बे समय तक नियंत्रण देता है. इनोवेक्सिया कम विषाक्ता वालापर्यावरण के लिए सुरक्षित कीटनाशक है प्कपास, मिर्च, सोयाबीन आदि विभिन्न फसलों में डेवलपमेंट ट्रायल्स चल रहे हैं जिसमें थ्रिप्स, जेसिड्स, हापेर्स आदि रस चूषक कीटों व सेमी लूपर व अन्य इल्लियों पर अच्छे परिणाम देखे गए हैं . कीट नियंत्रण के लिए “इनोवेक्सिया” की अनुशंसित मात्रा 120 मिली प्रति एकड़ है .

विलोवुड का टोरेट, मृदा के कीटों को नियंत्रित करने वला वेहतरीन कीटनाशक है. जो गन्ना, धान, कपास व मूंगफली की फसलों में विभिन्न कीट जैसे दीमक, सफेद लट (ग्रब) भूरा फुदका आदि कीटों पर लम्बा एवं प्रभावी नियंत्रण करता है. विलोवुड ने नाम इंडिका नाम से, सोयाबीन की फसल में चारे को नियंत्रित करने के लिए एक नया उत्पाद उतारा है, जो चौड़ी व संकरी पत्ती वाले खरपतवारों पर प्रभावी नियंत्रण देता है .

विलोवुड, राजस्थान के रीजनल  मेनेजर  सुरेश शर्मा  ने कंपनी की गुजरात में व्यापारिक उपलब्धियों पर प्रकाश डाला तथा वित्तीय बर्ष 2018-19 के लक्ष्य की योजनाओं के बारे में विस्तार से चर्चा की . इस विशेष अवसर पर विलोवुड वितरकों को विभिन्न उत्पादों कीa बिक्री में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया. अंत में सुरेश शर्मा ने सभी वितरकों को अच्छे व्यापार व में शुभदृमंगल की कामनाएं दी एवं आभार व्यक्त किया.

               

 

 

Comments