1. ख़बरें

Farmers Protest: दिल्ली में बाहर निकलने से पहले पढ़ें ये खबर, कई रास्तों पर है चक्का जाम

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Farmers Protest

Farmers Protest

अगर आप दिल्ली में रहते हैं और दिल्ली की सड़कों पर आपका आना-जाना लगा रहता है या फिर आज किसी ज़रूरी काम से बाहर जाना है, तो एक बार दिल्ली की सड़कों पर निकलने से पहले इस खबर को ज़रूर पढ़ लें.

दरअसल, आज केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को (Farmers Protest) 100 दिन पूरे हो गए हैं. ऐसे में किसान दिल्ली से सटे कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे (KMP Expressway) को 5 घंटे के लिए जाम कर रहे हैं.

किसानों का कहना है कि यह चक्का जाम सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक का शांतिपूर्ण किया जाएगा. इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने प्रदर्शनकारियों से कहा है कि आज 100 दिन पूरे होने पर किसान काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.  इसके साथ ही उनका कहना है कि आंदोलन खत्म नहीं हो रहा है, बल्कि वे “मजबूती से बढ़” रहे हैं.

चक्का जाम करेंगे किसान

आज के ‘चक्का जाम’ में किसान सिंघु बॉर्डर से किसान कुंडली पहुंच एक्सप्रेस वे का रास्ता ब्लॉक किया जा रहा है. इसके साथ ही मार्ग पर पड़ने वाले टोल प्लाजा को भी ब्लॉक किया जा रहा है. बता दें कि गाजीपुर बॉर्डर से किसान डासना टोल की ओर कूच करेंगे. टिकरी बॉर्डर से नजदीक बहादुरगढ़ बॉर्डर ब्लॉक करेंगे. इसके अलावा शाजहांपुर बॉर्डर पर बैठे किसान गुरुग्राम–मानेसर को छूता केएमपी एक्सप्रेस वे ब्लॉक कर रहे हैं. 

पिछले साल 26 नवंबर से जारी है आंदोलन

आपको बता दें कि पिछले 3 महीनों से अधिक समय से दिल्ली की तीन सीमाओं यानी सिंघु, टीकरी और गाजीपुर में किसान बड़ी संख्या में आंदोलन कर रहे हैं. 

इस में देश के विभिन्न हिस्सों से आए किसान डटे हुए हैं. इनमें पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान मुख्य रूप से शामिल हैं.

English Summary: Today, on the completion of 100 days of Kisan agitation in Delhi, Chakka will be jammed

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News