1. ख़बरें

किसानों के चक्का जाम पर पीएम की अपील- कानूनों को समझने के लिए कृषि मंत्री की स्पीच सुनें

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 60 दिनों से भी अधिक समय तक विरोध कर रहे किसान आज देशव्यापी चक्का जाम कर रहे हैं. इस चक्का जाम को लेकर सियासत भी गरमाई हुई है, एक तरफ कांग्रेस सहित लगभग सभी विपक्षी दलों ने इसको समर्थन दिया है, वहीं केंद्र सरकार ने दिल्ली में किसी भी तरह की गड़बड़ी से निपटने के लिए 50 हजार सुरक्षाबलों की तैनाती की है.

ड्रोन से नजर

केंद्र सरकार इस समय ड्रोन से आंदोलन स्थल पर नजर रखने के साथ-साथ किसानों को समझाने की कोशिश भी कर रही है. इस बात को आप पीएम मोदी के एक ट्वीट से भी समझ सकते हैं, जिसमें आंदोलन कर रहे किसानों से वो कानून को समझने की गुजारिश कर रहे हैं.

किसान आंदोलन पर पीएम का ट्वीट

अपने ट्वीट में पीएम मोदी ने कहते हैं- “कृषि मंत्री श्री नरेंद्र तोमर जी ने राज्यसभा में कृषि सुधार कानूनों से जुड़े प्रत्येक पहलू को लेकर विस्तार से जानकारी दी है, मेरा विनम्र निवेदन है कि उनकी यह स्पीच जरूर सुनें.” इसके साथ ही उन्होंने तीनों कृषि कानूनों के संबंधित नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा दिए गए भाषण का लिंक भी शेयर किया. 

राहुल गांधी का पलटवार

पीएम मोदी के इस ट्वीट के बाद आज राहुल गांधी ने भी एक ट्वीट किया. अपने ट्वीट में किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए उन्होने लिखा-“अन्नदाता का शांतिपूर्ण सत्याग्रह देशहित में है- ये तीन क़ानून सिर्फ़ किसान-मज़दूर के लिए ही नहीं, जनता व देश के लिए भी घातक हैं. पूर्ण समर्थन!”

सुरक्षा के विशेष प्रबंध

प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा चक्का जाम के आह्वान पर दिल्ली-एनसीआर की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. दिल्ली के आईटीओ पर भारी बैरिकेडिंग की गई है, दिल्ली गेट, लाल किला, जामा मस्जिद, जनपथ, केंद्रीय सचिवालय, खान मार्केट, नेहरू प्लेस और विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है.

English Summary: pm modi request farmers to read and understand new farm laws tweet narendra tomar video

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News