News

मिलिए उड़न तश्तरी बनाने वाले किसान के बेटे से

 

किसान को अकसर अनपढ़ और कम पढ़ा लिखा माना जाता है लेकिन आज किसान के बेटे और बेटियां ही सरकारी दफ्तरों, कृषि, इनोवेशन सहित हर एक क्षेत्र में झंडे गाड रहे हैं. हरियाणा के एक किसान के बेटे ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है. हरियाणा के आदमपुर कस्बे के कुलदीप ने एक ऐसी मशीन तैयार की है जिसको वो आसमान में उड़ा सकता है. कुलदीप ने इस फ्लाइंग मशीन को कड़ी मेहनत से बनाया है. यदि पढाई की बात करें तो कुलदीप बीटेक कर चुके हैं. उन्होंने इस मशीन को बनाने में पूरे तीन साल लिए. कुलदीप ने इस मशीन में बाइक के इंजन का इस्तेमाल किया है। यह पैराग्लाइडिंग फ्लाइंग मशीन एक लीटर पेट्रोल में करीब 12 मिनट तक आसमान में उड़ सकती है।  

इस उड़न तस्तरी को बनाने में इस किसान बेटे के ढाई लाख रूपये लगे जिसमें किसी का कोई योगदान नही रहा. इस मशीन में  इसके अलावा लकड़ी का पंखा और छोटे टायर लगे हैं। इसके ऊपर पैराग्लाइडर लगाया है, इसी के साथ इसमें पांच लीटर क्षमता वाला तेल टैंक लगाया गया है।  यह मशीन आसानी से 10000 फीट तक उड़ान भर सकती है. कुलदीप अब इस मशीन को और बेहतर बनाने में लगे हैं. कुलदीप के पिता पेशे से एक किसान है. इस प्रोजेक्ट में उनकी एक व्यक्ति ने मदद की है बाकी सरकार द्वारा इस प्रोजेक्ट में कोई सहायता प्रदान नहीं की गयी है. यदि किसान के बच्चे बिना किसी मदद और प्रशिक्षण के ऐसे यंत्र बना सकते है तो सोचिए यदि सरकार द्वारा उनको जरा भी प्रोत्साहन दिया जाए तो किसानों के बच्चे बहुत कुछ कर सकते हैं.

-इमरान खान 



Share your comments