1. ख़बरें

Lockdown 2021: प्रवासी मजदूरों का पलायन खड़ी कर सकता है बड़ी परेशानी

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Lockdown 2021

Majduro Ka Palayan

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की रफ्तार लगातार बेकाबू होती जा रही है. कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले दिन पर दिन अपना नया रिकॉर्ड बना रहे हैं. हालात ऐसे हो गए हैं कि देशभर में एक बार फिर से लॉकडाउन (Lockdown 2021) लगाने की संभावना बढ़ती जा रही है.

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ने पर कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू व लॉकडाउन (Lockdown 2021) लगाया गया है, तो वहीं एक बार फिर लॉकडाउन (Lockdown 2021) लगने के डर से मजदूरों ने पलायन शुरू कर दिया है.

राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगी लाइन

आपको बता दें कि लॉकडाउन 2021 (Lockdown 2021) के डर से हरियाणा के सोनीपत में घर वापस जाने वालों की राष्ट्रीय राजमार्ग पर लाइन लगी है. इसके साथ ही दिल्ली-मुंबई समेत कई राज्यों से मजदूरों ने अपने घर वापस जाना शुरु कर दिया है. इस दौरान बसों से जाने वालों में मारामारी हो रही है. ऐसे में एक बार फिर मजदूरों का पलायन उद्योगों के सामने परेशान खड़ी कर सकता है.

मजदूरों का पलायन

पिछले साल कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से लगे लॉकडाउन (Lockdown 2021)  की वजह से प्रवासी मजदूरों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा था. इस बार मजदूरों को इन परेशानियों का सामना न करना पड़ा, इसलिए प्रवासियों ने पहले ही पलायन शुरू कर दिया है. बता दें कि पिछले साल जब कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से लॉकडाउन (Lockdown 2021) की घोषणा हुई, तो अचानक यातायात बंद हो गया, इससे सबसे ज्यादा परेशानी प्रवासी मजदूरों को झेलनी पड़ी थी.

मजदूरों को हुई खान-पीन की दिक्कत

इस दौरान मजदूरों को खान-पान की बहुत परेशानी हुई, इसलिए मजदूरों ने पैदल ही घर वापसी का फैसला ले लिया था. सैंकड़ों मजदूर पैदल चलकर किसी तरह अपने घर पहुंचे थे. मगर इस दौरान मजदूरों और उनके परिवार को काफी परेशानी झेलनी पड़ी थी. कई मजदूरों की रास्ते में मौत हो गई, तो कई मजदूरों के घर वापस जाने तक पैर में छाले तक पड़ गए थे. 

मगर एक बार फिर कोरोना के मामले बढ़ने पर सख्ती शुरू हो गई है, तो प्रवासी मजदूरों ने लॉकडाउन 2021 (Lockdown 2021) के डर से पलायन शुरू कर दिया है.

English Summary: Lockdown 2021, workers start going back to home

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News