News

जन्मदिन विशेष : राजेश खन्ना

आंखें झुकाकर सब कुछ बंया कर देना, टोपी पहनने का अनोखा अंदाज और कमर से ऊपर बेल्ट पहनना, यह वह अंदाज है जिसपर शायद हंसी आए. लेकिन जब राजेश खन्ना फिल्मी पर्दे पर इस अंदाज में आए तो लोगों के चहेते बन गए. कौन भूल सका है वो डायलॉग जिन्हें राजेश खन्ना ने हमेशा के लिए अमर कर दिया.

'पुष्पा आई हेट टियर्स' , 'बाबूमोशाय ! जिंदगी लम्बी होनी चाहिए बड़ी नहीं'. राजेश खन्ना ने सिनेमा के पर्दे पर ये संवाद क्या कहे कि लोगों की ज़बान पर चढ़ गए. हर कोई राजेश खन्ना का दिवाना था.

काका ने अपने फिल्मी करियर में कईं यादगार फिल्मों में अभिनय किया और एक समय ऐसा आया जब काका ने लगातार 15 फिल्में हिट दे डाली जो आज तक एक रिकॉर्ड है. उसके बाद जो समय आया वो राजेश खन्ना के नाम रहा.

भारतीय सिनेमा का पहला 'सुपरस्टार'

भारत भूषण से लेकर रणवीर सिंह, आज तक न जाने कितने अभिनेता आए और चले गए लेकिन जो रुतबा और सम्मान राजेश खन्ना को मिला वो आज तक किसी को नसीब नहीं हुआ. राजेश खन्ना का फिल्म जगत में आना कोई संयोग नहीं था क्योंकि वह शुरु से ही अभिनेता बनना चाहते थे. बस, इंतज़ार था तो एक सहारे का, और वह उन्हें मिला एक टैलेंट हंट शो के ज़रिए. राजेश खन्ना ने व शो जीता और सिनेमा में कदम रखा, परंतु उनकी फिल्में कुछ खास नहीं कर पाईं और वह मायूस हो गए तभी यकायक उन्हें आराधना फिल्म मिली जिसने रातों-रात राजेश खन्ना को बुलंदियों तक पहुंचा दिया. मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू, रुप तेरा मस्ताना, बागों में बहार है, कोरा कागज़ था ये मन मेरा, गुनगुना रहे हैं भवरें, किशोर कुमार के इन गीतों ने राजेश खन्ना की लोकप्रियता को ओर बढ़ा दिया और वह हिंदी सिनेमा के पहले 'सुपरस्टार' बन गए.

क्यों अलग थे काका

राजेश खन्ना के लोकप्रिय होने के पीछे एक बड़ी वजह उनका हटके और जुदा अंदाज था. राजेश खन्ना अभिनय के इतने माहिर थे कि उनके सामने बड़े से बड़ा कलाकार भी बौना नज़र आता था, यही वजह रही कि कभी दिलीप कुमार सरीखे कलाकारों ने उनके साथ एक मंच साझा नहीं किया. राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन की एक यादगार फिल्म आई - आनंद, जो ज़बरदस्त हिट हुई. राजेश खन्ना की खूब वाह-वाही हुई जबकि अमिताभ बच्चन कहीं नज़र नहीं आए. राजेश खन्ना ने कईं बेहतरीन फिल्में की, जैसे - रोटी, आराधना, हाथी मेरे साथी, दो रास्ते, अवतार, कटी पतंग, सौतन, दाग, आनंद, अमर प्रेम और आप की कसम. यह लिस्ट बहुत छोटी है, क्योंकि राजेश खन्ना का अभिनय किसी लेख का मोहताज नहीं. आज राजेश खन्ना हमारे बीच नहीं परंतु उनकी फिल्में और उनका अभिनय सदैव जीवित रहेगा.



Share your comments