1. मशीनरी

फसल को कहां स्टोर करना है बताएगा ये एप, नहीं लगेगा कोई पैसा

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

Farmers

गांव-देहात में पहले के समय अनाज संग्रह करने या उसे हिफाजत से रखने के लिए अलग कक्ष होता था. लेकिन आज के समय में जगह की कमी के कारण ऐसा संभव नहीं है. यही कारण है कि आज कड़ी मेहनत करने के बाद भी भण्डारण की समस्या जस की तस बनी हुई है. अच्छा और ज्यादा उत्पादन भी रखरखाव के अभाव में खराब हो जाता है. ग्रामीण क्षेत्रों में कोल्ड स्टोर हर जगह उपलब्ध नहीं है.

हालांकि अधिकतर जिलों और ब्लाक में इसकी व्यवस्था है, लेकिन जानकारी के अभाव में उनका होना या ना होना बराबर ही है. खैर किसानों की ये समस्या बहुत हद तक दूर हो सकती है. दरअसल एनआइटी के सीएस विभाग के छह छात्रों ने इस मुद्दे पर अनोखा काम किया है.

क्या है इस एप में खास

इन छात्रों ने स्टोर रूम नाम का एक एप बनाया है. इस एप के माध्यम से किसान नजदीकी स्टोर रूम के बारे सभी जानकारी ले सकते हैं. किस स्टोर रूम में कितनी जगह बची है और किस उत्पाद के लिए कैसा स्टोर रूम चाहिए, इसकी जानकारी इस एप के माध्यम से आप ले सकते हैं.

बिलकुल फ्री है ये एप

जानकारी के मुताबिक इस एप के लिए किसी तरह के शुल्क की जरूरत नहीं है. किसान भाई इसका निशुल्क इस्तेमाल कर सकते हैं.

मिलेगें ये फायदे

ये एप पूरे प्रदेश के स्टोर रूम की जानकारी देने में सहायक होगा. जानकारी की सुविधा मैसेज के रूप में भी उपलब्ध होगी. अपनी फसलों को स्टोर करने के लिए किसान उत्पाद का ब्योरा टोल फ्री नंबर पर मैसेज कर सकते हैं, जहां से आगे की जानकारी उन्हें मिल जायेगी.

यहां से करें एप इंस्टाल

इस एप को गूगल प्ले स्टोर से ऑनलाइन इंस्टाल कर सकते है. इसके माध्यम से किसी भी स्टोर रूम का जायजा ऑनलाइन लिया जा सकता है. स्टोर रूम में कितनी जगह खाली है, जाना जा सकेगा. इसके साथ ही किसान यह भी देख सकता है कि उसके नजदीक का स्टोर रूम कौन सा है, जहां वो फसल को स्टोर कर सकता है.

English Summary: this app will tell about near store room this is how its beneficiary for farmers

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News