1. लाइफ स्टाइल

जानिए क्या है भारतीय मसालों का ग्रहों से संबंध और इनके राज

हमारे देश में कई तरह के मसालों का उत्पादन किया जाता है. जोकि सब्जी बनाने से लेकर कई तरह की खाद्य वस्तुओं को बनाने में इस्तेमाल किए जाते है.यह मसाले जितना खाने में स्वाद लाते है उतने ग्रह नक्षत्रों के पड़ने वाले बुरे प्रभावों से भी बचाते है.तो आज हम अपने इस लेख में आपको बताएंगे कि किस तरह हमारे घर में उपयोग होने वाले ये मसाले ब्रह्माण्ड के किस ग्रह का प्रतिनिधित्व करते है…

1.सूर्य ग्रह 

लाल मिर्च को सूर्य व मंगल का मसाला माना जाता है जो हमारे स्वाद की ग्रंथि (Taste Gland) को मजबूत कर रक्त को संचारित करने में मदद करता है. इसके साथ ही काली मिर्च (Black Pepper), सरसों(Mustard), गुड़ (Jaggery) आदि पर भी सूर्य का प्रभाव बना रहता है.

2.चंद्र ग्रह

इलाइची को चंद्र का मसाला माना जाता है जो हमारे श्वास के रोगों (सांस सम्बंधित समस्या) में काफी फायदेमंद होती है.इसका सेवन सुगंध पैदा करता है. इसके अलावा हींग को भी चंद्र का मसाला कहा जाता है जो अपनी तीखी सुगंध और गुण से शरीर से वायु प्रकोप को दूर करने में मदद करता है.जिससे पेट में गैस की समस्या से काफी राहत मिलती है.

3.राहु ग्रह 

तेजपत्ता को राहु का मसाला माना जाता है. यह दर्दनाशक के रूप में भी उपयोग किया जाता है. इसकी सुगंध काफी अच्छी है. इसके साथ ही यह त्वचा के रोग के अलावा अन्य कई प्रकार के रोग में भी फायदेमंद होता है. इसका ज्यादातर उपयोग सर्दी में किया जाता है.

4.शनि ग्रह 

काली मिर्च को शनि का मसाला माना जाता  है जोकि  कफनाशक का काम भी करती है. यह हमारे शरीर की पाचन क्रिया को भी दुरुस्त रखती है. इससे शनि प्रबल होता है. इसके साथ भी लौंग भी शनि का ही मसाला है ये सिर दर्द और दांत दर्द दूर करने की क्षमता रखता है.

ये खबर भी पढ़ें: चेहरे की इन प्रॉब्लम्स से जाने, आपको है कौन-सी बीमारी

English Summary: Know what is the relationship between Indian spices to the planets and their secrets

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News