1. ग्रामीण उद्योग

Swadeshi Business Ideas: इन 3 स्वदेशी बिज़नेस से कमा सकते हैं लाखों का मुनाफ़ा, ऐसे बनाएं देश और स्वयं को आत्मनिर्भर

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Swadeshi Desh

Swadeshi Business

वर्तमान समय में कोरोना महामारी के चलते जहां विदेशी चीजों को लेने से लोग घबरा रहे हैं. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को आत्मनिर्भर बनाने का ऐलान किया हैं. क्योंकि कोरोना की वजह से अन्य देशों में जाने की अनुमति नहीं है. यही हाल अन्य देशों में भी देखने को मिल रहा है. इस स्थिति में देश और विदेश से होने वाला आयात-निर्यात (Import-Export) का कम हो जाएगा, जिससे विदेशों से आने वाले उत्पादों की कमी हो रही है. 

इन्हीं समस्याओं को देखते हुए ही देश का आत्मनिर्भर बनना बहुत ही ज़रूरी है. इसके लिए हर नागरिक को स्वदेशी उत्पादों का उपयोग करना होगा. जिससे इनकी मांग भी अधिक बढ़ जाएगी. अगर आप भी स्वदेशी उत्पादों का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो यह लेख आपके लिए पढ़ना बेहद ही ज़रूरी है, क्योंकि इस लेख में हम कुछ खास स्वदेशी बिजनेस के विकल्प बताने जा रहे हैं. तो आइये जानते हैं इनके बारे में विस्तार से...

क्या है स्वदेशी बिजनेस (What is Swadeshi Business)

सबसे पहले आपको यह जानना ज़रूरी है कि स्वदेशी बिजनेस क्या होता है? दरअसल, जब अपने ही देश में किसी उत्पाद की मैन्युफैक्चरिंग और डिस्ट्रीब्यूशन होता है. यानी जिस उत्पाद को अपने देश में भी बनाया और बेचा जाए, तो वह स्वदेशी बिजनेस कहा जाता है.  

ये हैं स्वदेशी बिज़नेस के विकल्प (Swadeshi Business Ideas)

आधुनिक समय में देश की कई स्वदेशी कंपनियां उत्पादों का निर्माण कर रही हैं. इसके साथ ही काफी अच्छा मुनाफ़ा भी कमा रहे हैं. अगर आप भी स्वदेशी उत्पाद बनाना का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो यह आपके लिए बहुत लाभकारी साबित होगा. बता दें कि इस समय देश में स्वदेशी उत्पादों की मांग काफी तेजी से बढ़ रही है.

1) गौ मूत्र से बनने वाले उत्पाद का बिजनेस (Cow Urine Product Business)

आप गाय के मूत्र से एक अच्छा बिजनेस खड़ा कर सकते हैं. इसके द्वारा आप अर्क, नहाने का साबुन, डिटर्जेंट पाउडर, शैम्पू, फिनाइल आदि उत्पाद बना सकते हैं. बता दें कि गाय के मूत्र से बनाए जाने वाले सभी उत्पाद शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. ऐसे में यह एक बहुत ही अच्छा स्वदेशी बिजनेस करने का विकल्प है, जिसको आप घर से भी आसानी से शुरू कर सकते हैं.

इसके अलावा सरकार छोटे उद्यमियों को गाय के अन्‍य सह-उत्‍पादों का फायदा उठाने के लिए प्रोत्‍साहित कर रही है ताकि ग्रामीण भारत में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाए जा सकें और किसानों की आय में भी वृद्धि की जा सके. जिससे हमारा देश और आगे बढ़े.

2) गाय के दूध से बने उत्पाद का बिजनेस (Cow's milk product business) 

देश में कई ऐसी कंपनियां हैं, जो कि गाय के दूध से बने उत्पादन का निर्माण करती हैं. इससे वह लाखों-करोड़ों रुपए की कमाई भी कर रहे हैं. बता दें कि गाय के दूध से घी, मक्खन, बटर, दही, मिल्क मेड और चॉकलेट बनाने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं. इन सभी उत्पादों को गाय के दूध से आसानी से बनाया जा सकता है. इससे अच्छा मुनाफ़ा भी मिल है. इस बिजनेस को शुरू करके आप अपनी कंपनी को एक अच्छा-सा नाम भी दे सकते हैं.

3) फ्रूट जैम बनाने का बिजनेस (Fruit jams making business)

आप फलों की मदद से कई तरह के जैम और जूस बना सकते हैं. इस वक्त देश में कई कंपनियां इस बिजनेस से अच्छा पैसा कमा रही हैं. जैसे पतंजलि, इंडाना, प्रिय, रसना, फ्रूटी आदि. इस तह आप भी  जैम, जूस, और कोल्डड्रिंक का निर्माण कर सकते हैं. इस बिजनेस को शुरू करके लाखों रुपए की कमाई आसानी से की जी सकती है.

रॉ मैटेरियल (Raw Material)

  • फ्रूट (स्ट्राबेरी,रसबेरी और ब्लूबेरी)

  • पीलर मशीन

  • बायलर

  • मिक्सर

  • फिलर 

लाइसेंस और परमिशन (License and Permission)

  • एफएसएसएआई (FSSAI) से लाइसेंस लेना पड़ेगा

  • बिज़नेस का नाम निर्धारण कर उस नाम से अपने बिज़नेस को रजिस्टर्ड करवाना होगा.

  • आपके द्वारा तैयार हुए फ्रूट जैम को फूड टैस्टिंग लैब (FTL) में टैस्ट भी करवाना होगा.

मार्केटिंग (Marketing)

अपने प्रोडक्ट को बाजार में लोकल वेंडर की मदद से बाजार में उतारे या फिर लोकल दूकान पर भी जैम की सप्लाई कर सकते हैं.

अन्य जानकारी (Other Information)

इस तरह आप विभिन्न प्रकार के स्वदेशी बिज़नेस को शुरू कर सकते हैं. जैसे, मोबाइल, घरेलू सामान, कार, मोटरसाइकिल आदि. इस तरह हमारा देश भी मेक इन इंडिया बना पाएगा. यह राह देश को ज़रूर   विकास की ओऱ ले जाएगी.

English Summary: Idea of ​​indigenous business

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News