1. विविध

Republic Day 2021: हर साल 26 जनवरी को ‘गणतंत्र दिवस’ क्यों मनाते हैं, पढ़िए इस दिन से जुड़ी अहम बातें

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Republic Day 2021

Republic Day 2021

इस साल पूरा देश 72वां गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) मनाएगा. हर साल 26 जनवरी को बड़ी धूमधाम के साथ गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) मनाया जाता है. इस अवसर पर देश की राजधानी दिल्ली के राजपथ पर भव्य परेड का आयोजन किया जाता है, साथ ही कई अनोखी झाकियां भी निकाली जाती हैं.

मगर क्या आप जानते हैं कि हर साल देश में 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) क्यों मनाया जाता है. दरअसल, भारत की आजादी के बाद संविधान सभा की घोषणा की गई, जिसने अपना कार्य 9 दिसम्बर 1947 से शुरु किया. भारतीय संविधान का निर्माण 2 साल, 11 महीने, 18 दिन में किया गया. आइए आपको इस संबंध में पूरी जानकारी देते हैं.

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को क्यों मनाते हैं?

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जाता है, क्योंकि सन् 1950 में 26 जनवरी के दिन ही भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था. बता दें कि सन् 1950 में 26 जनवरी के दिन सुबह 10:18 बजे भारत एक गणतंत्र देश बना. इसके 6 मिनट बाद 10:24 बजे राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी.

इस दिन पहली बार बतौर राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद बग्गी पर बैठकर राष्ट्रपति भवन से निकले थे और पहली बार भारतीय सैन्य बल की सलामी ली थी. पहली बार उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया था.

भारतीय संविधान सभा द्वारा एक स्वतंत्र गणराज्य बनने के लिए संविधान को 26 नवंबर 1949 को अपनाया गया. इस सभा के प्रमुख सदस्य डॉ. भीमराव आंबेडकर, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि थे. हमारे देश का संविधान डॉ भीमराव अम्बेडकर के नेतृत्व में लिखा गया. इसे लिखने में पूरे 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे थे.

बता दें कि गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) के अवसर पर राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं. इसके साथ ही हर साल 21 तोपों की सलामी दी जाती है.

English Summary: Why do you celebrate Republic Day on 26 January every year?

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News