1. विविध

दें सवालों के जवाब और पाएं जूता मुफ्त !

चन्दर मोहन
चन्दर मोहन

शादी के लिए लड़का-लड़की देखने का चलन बहुत पुराना है. क्या आपने कभी सोचा कि लड़की आप में क्या देखती है. जी हाँ ! मेरी शादी होने वाली थी. मैं कोट-पैंट पहनकर, जूता पौलिश कर एकदम सज-धज कर लड़की वालों के यहाँ पहुंचा. लड़की ने मेरे लिए मंजूरी दे दी थी. शादी के बाद मुझे पता चला की मेरी पत्नी ने मेरे जूता पहनने और उसे अच्छी तरह से पौलिश होने की वजह से शादी के लिए हाँ कह दी थी. लेकिन यहाँ यह भी बता दें की घर में जूता कैसे और कहाँ रखना चाहिए.

जूता चपल भी नौकरी, पैसा और बिज़नेस को चमकाने के लिए एक टोटके की तरह इस्तेमाल होता है.

क्या अपने देखा कि हर घर के बाहर एक पायदान होता है. कुछ लोग जूते-चप्पल को उसके पास रखते हैं और कोई-कोई तो घर में अंदर प्रवेश करने के बाद अपना जूता चप्पल ऐसे फेंक देते हैं मानों लगता है कि उनका एक पैर कहीं तो दूसरा पैर कहीं और है.

जब कोई काम नहीं बनता तो अपनी किस्मत को कोसने लगते हैं. यहाँ यह दें कि जूता चप्पल भी एक टोटका है जिसको यदि एक इज्जत बक्शी जाये तो वह वारे-न्यारे कर सकता है.

इस लेख को पड़ने के बाद भी यदि आप भी जूते-चप्पल को सही तरीके से रखने लगेगें तो इसका प्रभाव भी जल्दी नजर आएगा.

देखा जाए तो जूते चप्पल रोज़मर्रा में इस्तेमाल होने वाली सबसे आम चीजों में से एक हैं. हम जब भी घर से बाहर निकलते हैं तो इन्हें पैरो में डालना नहीं भूलते. इन जूते, चप्पलों को पहनकर ही हम बाहर के ज्यादातर कामों को निपटाते हैं. कुछ लोग तो घर के अन्दर भी स्लीपर पहनना पसंद करते हैं. कुल मिलाकर कहा जाए तो ये हमारे रोज़मर्रा की एक ऐसी चीज होती हैं जिसके बारे में हम कभी गहराई से नहीं सोचते.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन जूते-चप्पलों का सही या गलत इस्तेमाल आपकी जिंदगी आबाद और बर्बाद कर सकता हैं. जब भी हम बाहर से आते हैं तो जल्दबाज़ी में जूतों को यहाँ-वहां रख देते हैं. लेकिन आपके द्वारा की गई छोटी-छोटी चीजें भी घर की सकारात्मक और नकारात्मक उर्जा पर प्रभाव डालती हैं.

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको वास्तु से जुड़ी कुछ ऐसी टिप्स बताएंगे जो आपके घर के जूते चप्पलो से सम्बंधित हैं. यदि आप इन वास्तु टिप्स को फॉलो करेंगे तो आपके घर कभी कोई मुसीबत नहीं आएगी.

जब भी आप या आपके परिवार का कोई सदस्य बाहर से घर में आए तो अपने जूते, चप्पलों को सीधा व्यवस्थित तरीके से रखें. घर के बाहर या अन्दर आड़े-तिरछे और अव्यवस्थित तरीके से पड़े जूते, चप्पल नकारात्मक ऊर्जा देते हैं. इन्हें ऐसा छोड़ देने से घर में लड़ाई-झगड़े की स्थिति पैदा होती हैं. इसलिए इन्हें हमेशा जमाकर एक कोने में रखें.

घर के मुख्य द्वार के सामने कभी भी अपने जूते, चप्पलों को न रखें. घर के मुख्य द्वार से लक्ष्मी जी प्रवेश करती हैं ऐसे में उनके रास्ते में जूते-चप्पलों का होना अच्छी बात नहीं हैं. वो इन्हें देख कर घर में प्रवेश नहीं करती हैं.

 घर के बाहर रखी शू-रैक की उंचाई घर की छत की हाईट की तुलना में एक तिहाई से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. आसान शब्दों में कहें तो शू-रैक की हाईट जितना ज्यादा हो सके कम ही रखें.

यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो घर के सदस्यों को स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैं.

जूते, चप्पलों को कभी भी घर के दक्षिण पूर्वी या उत्तरी पूर्वी हिस्से में नहीं रखना चाहिए. बल्कि जूते चप्पलों को घर के पश्चिमी या दक्षिण पश्चिमी हिस्से में रखना शुभ माना जाता हैं. यदि आप इन नियमों का पालन नहीं करेंगे तो आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता हैं

जब भी आप शू-रैक ख़रीदें तो कोशिश करें कि उसमें एक दरवाजा भी हो. शू-रैक के बंद होने की वजह से उसके अन्दर की नकारात्मक उर्जा बाहर घर में नहीं फैलती हैं.

जहाँ तक हो सके जूते, चप्पलों को घर के बेडरूम में ना रखें. इससे निकलने वाली एनर्जी शादी-शुदा कपल के बीच तनाव पैदा कर सकती हैं.

शू- रैक को कभी भी पूजा घर या किचन के नजदीक ना रखें. ऐसा करने से घर की बरकत चली जाती हैं.

तो ये हैं कुछ ऐसे टोटके जिनसे जूतों की नकारात्मक ऊर्जा को सकारात्मक ऊर्जा में तब्दील किया जा सकता है. हालाँकि जूता है तो पैरों में पहनने की चीज पर इसकी वजह से आप को ताज तक नसीब हो सकता है.

आप ने यदि यह लेख पूरा पढ़ा है तो दीजिये इन आसान से सवालों के जवाब और पाएं जूता मुफ्त में !

सवाल नंबर 1 - आप कौन-सा और कैसा जूता पहनते हैं ?

सवाल नंबर 2 - आप घर में जूता चप्पल कहाँ रखते हैं ?

सवाल नंबर 3 - क्या आप टोने-टोटके में विश्वास करते हैं ?

जल्द से जल्द इन सवालों के जवाब दीजिये और आप जीत सकते हैं कृषि जागरण की तरफ से - विस्कोस का जूता मुफ्त .

English Summary: How can shoe shine your fate

Like this article?

Hey! I am चन्दर मोहन. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News