आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. विविध

जानिए 11 करोड़ रुपये के भैंसा के बारे में, जिस पर खर्च होता है हर महीने 50 हजार रुपये

इस महंगाई के दौर में हर एक चीज का दाम लगातार बढ़ रहा हैं. लेकिन हजारों में बिकने वाली चीज अचानक से करोड़ों में बिकने लगे तो खरीदने और सुनने वालों को काफी अजीबोगरीब लगता है. मगर यही सत्य है. क्या आपने सुना है 11 करोड़ के भैंसा के बारे में, अगर नहीं तो मिलिए ‘रुस्तम’ भैंसा से, जिसकी सुंदरता और बेहतरीन अंदाज को देखकर सभी लोग हैरान हो जाते हैं. करोड़ में कीमत होने की वजह से ये लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. और इसे दूर-दराज से भी लोग देखने आ रहे हैं. ‘रुस्तम’ भैंसा के मालिक दलेल सिंह का कहना है कि 'इसके खाने पर वह हर महीने 50 हजार रुपये खर्च करते हैं.

बता दें कि हरियाणा के सोनीपत में इन दिनों 'एग्री लीडरशिप समिट' का आयोजन किया गया है. 'एग्री लीडरशिप समिट' में किसानों को नई-नई तकनीकों से रूबरू कराया जा रहा है. वहीं पशुओं की प्रदर्शनी भी लगी है. प्रदर्शन में आए पशु भी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं. इसमें सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र 11 करोड़ रुपये की कीमत वाला रुस्तम भैंसा है. प्रदर्शनी में आए भैंसा, गाय, भैंस, घोड़ी व सांड़ आमतौर पर सालाना 1 से 15 लाख रुपये तक कमाई करते हैं.\

गौरतलब है कि हरियाणा के जींद के गतौली गांव के रहने वाले दलेल सिंह का मुर्रा ए प्लस नस्ल का भैंसा रुस्तम सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. इसके वजह से दलेल सिंह के घर पुरस्कार की लाइन लगाई हुई है. वह जहां भी जाता है, वहां से चैंपियन बनकर आता है. दलेल सिंह के मुताबिक, रुस्तम के खाने पर वह हर महीने पचास हजार रुपये खर्च करते हैं. वह दूध, चना, गेहूं, सोयाबीन, गन्ना, गाजर, सेब, केला आदि खाता है. दलेल सिंह के मुताबिक, वे हर साल रुस्तम की मदद से लगभग 1 करोड़ रुपये की कमाई करते हैं. और उस पर अभी तक 11 करोड़ रुपये खर्च कर चुके है. लेकिन वह इसे बेचना नहीं चाहते हैं. 

English Summary: Know about the Rs 11 crore buffalo,spent on 50 thousand

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News