1. विविध

Best Indoor Herbs : इन 5 जड़ी बूटी को घर में लगा और पाएं सेहत का वरदान!

Indoor Herbs

जड़ी-बूटी की खेती (Herbs cultivation) अब बड़े पैमाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि अब इसे छोटे से घर में भी उगाया जा सकता है. जी हां, अपनी सेहत का ख्याल रखने के लिए और अपने गार्डनिंग (Gardening) के शौक को पूरा करने के लिए आज हम आपको बातएंगे कि घर में कौन-सी जड़ी बूटियां उगाई जा सकती हैं.

घर के अंदर उगाने के लिए सबसे अच्छी जड़ी-बूटियां (Best herbs to grow indoors)

तुलसी (Basil)

दुनिया भर के व्यंजनों के लिए तुलसी एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी मानी गई है और इसको घर के अंदर उगाना आसान है. इसका या तो आप बीज बोएं या छोटे पौधे खरीद लें और उन्हें समृद्ध, जैविक मिट्टी में गमले में लगाए. तुलसी को गर्मी और तेज रोशनी पसंद है, इसलिए इसे दक्षिणी या पश्चिमी खिड़की दें या ग्रो लाइट का इस्तेमाल करें. आप इसकी पत्तियों को कई हफ्तों तक रख और उपयोग कर सकते हैं.

पुदीना (Mint)

पुदीने के पौधे आमतौर पर तेजी से बढ़ते हैं और उनके अनुगामी सुगंधित तने उन्हें आकर्षक हाउसप्लांट बनाते हैं. इसको उगाने के लिए मिट्टी को नम रखें और उन्हें मध्यम से तेज सूरज की रोशनी दें. यह तुलसी की तरह ही औषधियों गुणों से भरपूर है और अक्सर लोग इसका इस्तेमाल चटनी बनाने में करते हैं.

रोजमैरी (Rosemary)

यह अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में उगाया जाता है और दक्षिण दिशा में सबसे अच्छा बढ़ता है. इसका उपयोग करने के लिए नियमित रूप से छंटाई करें और फिर इसका इस्तेमाल करें. इस जड़ी-बूटी की तीखी गंध से घर में महक ही महक हो जाती है. बता दें कि यह एक प्राकृतिक एयर फ्रेशनर की तरह काम करती है.

यह भी पढ़ें: हर्बल खेती के हब के रूप में विकास कर रहा खूंटी जिला, विदेशों में बढ़ रही मांग

दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी एक कठोर पौधा है और इसमें जलवायु और मिट्टी को अपने हिसाब से ढालने और उगने की क्षमता होती है. दालचीनी लगाने के लिए क्षेत्र को साफ कर के 50 सेमी x 50 सेमी x 50 सेमी आकार के गड्ढे में 3 मीटर x 3 मीटर की दूरी पर लगाये जाते हैं. दालचीनी की रोपाई जून-जुलाई में की जाती है ताकि मानसून का लाभ उठाकर रोपाई की जा सके.

लेमन ग्रास (Lemon grass)

इसको चाइना ग्रास के नाम से भी जाना जाता है. लेमन ग्रास में चिकित्सीय और रोगाणुरोधी गुणों की भरमार होती है. इसकी पत्तियों का उपयोग मुख्य रूप से विभिन्न औषधियों को तैयार करने के लिए किया जाता है. लेमनग्रास से तैयार औषधि का उपयोग सिर दर्द, दांत दर्द और बुखार जैसी विभिन्न समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जाता है. यह रेतीली, जलोढ़ और अच्छी जल निकासी वाली दोमट मिट्टी में उगाया जा सकता है.

English Summary: Apply these 5 herbs at home to be a boon of health!

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters