1. ख़बरें

Krishi Yantrikaran Yojana: महिला और पुरुष किसानों को 80% सब्सिडी पर मिलेगा कृषि यंत्र, जानें कौन उठा सकेगा लाभ

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Krishi Yantrikaran Yojana

Krishi Yantrikaran Yojana

झारखंड के किसानों (Jharkhand Farmers) के लिए एक बड़ी खुशखबरी (Good News) है. दरअसल, किसानों को करीब 3 साल बाद सब्सिडी पर कृषि यंत्रों (Agricultural Equipment Subsidy) का वितरण किया जाएगा. यह सुविधा कृषि यांत्रिकीकरण योजना (Krishi Yantrikaran Yojana) के तहत दी जाएगी. जानकारी के लिए बता दें कि पिछले 3 सालों से गतिरोध के चलते इस योजना का क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा था. ऐसे में राज्य के किसान इस योजना का लाभ उठाने से वंचित चल रहे थे.

क्या है कृषि यांत्रिकीकरण योजना (What is Krishi Yantrikaran Yojana)

महिला स्वयं सहायता समूह, महिला सखी मंडल और कृषि समूहों को कृषि यंत्र (Agricultural Equipment) मुहैया कराए जाएंगे. बता दें कि इस योजना के तहत मिनी ट्रैक्टर, पॉवर टीलर, सेल्फ प्रोपेल्ड रीपर और उसके सहायक यंत्रों के लिए 5 लाख रुपए की लागत पर क्रय करने के लिए प्रति समूह को 80 प्रतिशत का अनुदान या अधिकतम 4 लाख रुपए उपलब्ध कराए जाएंगे.

इससे किसान खुद भी कृषि यंत्रों (Agricultural Equipment) का उपयोग कर सकेंगे, साथ ही भाड़े पर भी कृषि यंत्र (Agricultural Equipment) उपलब्ध कराकर अपनी आय बढ़ा सकेंगे. बता दें कि इस योजना के लिए राज्य सरकार ने 25 करोड़ रुपए का प्रविधान किया है.

कब तक मिलेगा लाभ (How long will benefit)

किसान समूहों को सब्सिडी पर कृषि यंत्र (Agricultural Equipment) मुहैया कराने से जुड़ी प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. बताया जा रहा है कि किसानों को बजट सत्र से पहले कृषि यंत्र मुहैया करा दिए जाएंगे.

इसके तहत महिला और पुरुषों के किसान समूहों के बीच 425 मिनी ट्रैक्टर (Mini Tractor) और 165 पॉवर टीलर (Power Tiller) का वितरण होगा. बता दें कि किसानों को वित्तीय वर्ष 2017-18 के बाद से इस योजना का लाभ नहीं मिला है.

English Summary: Farmers of Jharkhand will get agricultural implements on subsidy under Krishi Yantrikaran Yojana

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News