1. मशीनरी

Top 5 Agricultural Machine: ऐसे 5 आधुनिक कृषि यंत्र जो श्रम और लागत कम करने के साथ ही बढ़ाते हैं मुनाफा

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

Machinery

खेतीबाड़ी में आधुनिक कृषि यंत्रों (Modern agricultural machinery) की भूमिका काफी बढ़ गई है. इनके बिना खेती करना काफी मुश्किल हो गया है. अगर देखा जाए, तो कृषि यंत्रों (Agricultural machinery) ने खेती को बहुत समृद्ध और आरामदायक बना दिया है. आज हम आपको खेतीबाड़ी में काम आने वाले टॉप 5 कृषि यंत्रों की जानकारी देने वाले हैं, जिससे खेती में श्रम लागत कम लगती है और मुनाफ़ा ज्यादा मिलता है. खास बात है कि इन कृषि यंत्रों पर सरकार की तरफ से समय-समय पर सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है.

ट्रैक्टर (Tractor)

यह कृषि कार्यों को बहुत आसान बना देता है. इसकी मदद से खेत की जुताई, बुवाई, सिंचाई, फसल की कटाई, ढुलाई आदि कार्य आसान हो जाते हैं, साथ ही कम समय किए जा सकते हैं. इसके साथ अन्य कृषि यंत्रों जैसे कल्टीवेटर, रोटावेटर, थ्रेसर, जीरो टिल सीड कम फर्टिलाइजर ड्रिल आदि को जोडक़र खेती के काम किए जा सकते हैं.

पावर टिलर (Power tiller)

यह खेतीबाड़ी की एक ऐसी मशीन है, जो खेत की जुताई से लेकर फसल की कटाई तक बहुत काम आती है. इस मशीन द्वारा फसल की निराई, सिंचाई, मड़ाई और ढुलाई करना बहुत आसान हो जाता है. जिस प्रकार देसी हल में एक सीध पर बुवाई की जाती है, वैसे ही इस मशीन से बुवाई की जाती है. इस मशीन को चलाना भी बहुत सरल है, जिसको कई कंपनियां बनाकर तैयार करती हैं. इस मशीन को पेट्रोल और डीज़ल, दोनों से चला सकते हैं.

रोटावेटर (Rotavator)

इसको रोटरी टिलर भी कहा जाता है. इसका मुख्य उपयोग मिट्टी को तोड़ने और खोदने में किया जाता है. इस मशीन को अधिकतर ट्रैक्टर के पीछे लगाकर इस्तेमाल किया जाता है. सभी प्रकार की मिट्टियों की जुताई में उपयोग होता है. इस मशीन से ईंधन की बचत होती है. इस मशीन से लगभग 125 से 1500 मिमी की गहराई तक जुताई कर सकते हैं. यह बीजों की बुवाई और फसलों के अवशेष हटाने में उपयोग है.

रोटो बीज ड्रिल (Roto Seed Drill)

इस मशीन के गियर काफी मजबूत और शक्तिशाली होते हैं. इसका उपयोग मुख्य रूप से कटाई के बाद बुवाई के लिए किया जाता है. इसके साथ ही मलबे को कुचलने और मिश्रण के काम भी आती है. इससे ईंधन की बचत होती है. इसके अलावा मिट्टी में नमी को संरक्षित करती है, साथ ही बीज और उर्वरक का प्रसार होता है.

हैपी सीडर (Happy Cedar)

यह मशीन धान कटने के बाद गेहूं की बुवाई में काम आती है. इस मशीन में जीरोटिल सीड कम फर्टिलाइजर मशीन के सभी गुण हैं. खास बात है कि इससे फसल के बचे डंठल आदि दबाए जा सकते हैं. इसके लिए चॉपर लगा होता है, जो डंठल को काटकर मिट्टी में दबा देता है. ये खबर भी पढ़े: कल्टीवेटर कृषि यंत्र से बनाएं खेत की मिट्टी को ढीला, जानें इसकी खासियत और कीमत

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News