1. ख़बरें

काम की बात: पशुपालकों को चारा संबंधी फसलों की सभी जानकारी Mobile app पर मिलेगी

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

किसानों के लिए एक अच्छी खबर है. दरअसल, देश के किसानों के लिए भारतीय चारागाह और चारा अनुसंधान संस्थान (ग्रासलैंड) ने चारा संबंधी फसलों के उत्पादन और संरक्षण की जानकारी देने के लिए 4 मोबाइल एप्लीकेशन (Mobile Applications) बनाएं हैं. इसके जरिए किसानों को चारा संबंधी हर छोटी-बड़ी जानकारी मिल पाएगी. इतना ही नहीं, किसान इन ऐप के जरिए सवाल भी पूछ सकते हैं.

4 मोबाइल एप्लीकेशन के नाम

  • चारा एप

  • फॉरेज इंडिया

  • फॉरेज सीड

  • फोडर एंड रेंज ग्रासेस

किसानों के लिए उपयोगी हैं ऐप

  • इन ऐप में चारा फसलों की उन्नत तरीके से खेती करने और घास संरक्षण की विधियों को बताया गया है.

  • इनके जरिए नई किस्मों, बीज, उर्वरक, मशीनरी, मूल्य, मौसम, कीटों और रोगों की जानकारी ले सकते हैं.

  • इसके अलावा किसान पोषक तत्व प्रबंधन और सही समय पर उत्पादन से लेकर विपणन तक की अहम जानकारियां ले सकते हैं.

  • इसके साथ ही ऐप के जरिए किसान उपयोगी चारा फसलों और चारागाह के विकास के लिए ग्रासलैंड के कृषि वैज्ञानिकों से सवाल पूछ सकते हैं.

  • इतना ही नहीं, पशुओं की देखभाल और उनके लिए पौष्टिक आहार तैयार करने की विधियां बताई जाएंगी.

  • मासिक फसल, पशुओं से संबंधित गतिविधियों का उल्लेख किया गया है.

  • अगर किसान को चारा फसलों संबंधी बीज खरीदना है, तो वह इस ऐप के जरिए मंगवा सकते हैं.

ऐसे डाउनलोड करें ऐप

इस एप्लीकेशन को ग्रासलैंड द्वारा बनाया गया है. इस ऐप को किसान अपने एंड्रायड मोबाइल फोन के प्ले स्टोर से जाकर मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं. बता दें कि इन ऐप से लगातार किसान जुड़ रहे हैं. अब तक लगभग 2 हजार से अधिक किसानों ने इन ऐप को डाउनलोड कर लिया है.

ये खबर भी पढ़े: पशुओं को हरा चारा खिलाने के लिए बोएं मक्का और लोबिया, जानें कैसे

English Summary: 4 mobile apps give information about forage crops

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News