1. लाइफ स्टाइल

जानिए, गर्भावस्था के दौरान किस प्रकार के पपीता का सेवन करना चाहिए

स्वाति राव
स्वाति राव
Papaya

Papaya

गर्भावस्था एक ऐसी अवस्था होती है जो हर महिलाओं के लिए बहुत ख़ास होती है. गर्भावस्था के दौरान महिला जो भी कुछ खाती है, उसका प्रभाव सीधा उसके पेट में पल रहे बच्चे पर पड़ता है. 

ऐसे में यह जानना बेहद जरुरी है हर माँ के लिए की गर्वावास्था में क्या खाना चाहिए, जो आपके साथ-साथ आपके पेट में पल रहे बच्चे के लिए भी लाभदायक हो.

फल का सेवन बहुत लाभदायी होता है लेकिन हर फल के साथ ऐसा नहीं है. खासतौर पर पपीते के साथ तो बिल्कुल भी नहीं. तो आइये जानते हैं गर्भावस्था के दौरान किस प्रकार का पपीता का सेवन करना चाहिए 

गर्भावस्था में पका हुआ पपीता का सेवन करना चाहिए (Ripe Papaya Should Be Consumed During Pregnancy) 

 गर्भावस्था के दौरान पका हुआ पपीता बेहद सुरक्षित और फायदेमंद होता हैआइये जानते हैं इसके फायदे के बारे में 

  • पपीते में मौजूदविटामिन जो रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैंऐसे में गर्भावस्था में इसका सेवन विभिन्न संक्रमण से बचाती है.  

  • गर्भावस्था के दौरान कब्ज़ की समस्या होने की सम्भावना होती है. ऐसे में अगर गर्भावस्था महिला पपीते का सेवन करती हैं, तो इससे काफी लाभ मिलेगाक्योंकि पपीते में फाइबर की मात्रा पाई जाती है. जो पाचन क्रिया को मजबूत करती है.   

  • पपीते मेंफॉलिक एसिड भी होता हैजो गर्भावस्था के दौरान शिशु के स्नायुविक विकास के लिए आवश्यक होता है. 

  • पर्याप्त मात्रा में विटामिनअल्सर और त्वचा की समस्याओं को भी रोकता है. 

  • गर्भावस्था के दौरान वायरल बीमारियों में पपीते के सेवन से प्लेटलेट की वृद्धि में मदद मिल सकती है.   

  • गर्भावस्था के दौरान पके हुए पपीते का सही मात्रा में सेवन करने से दूध उत्पादन की वृद्धि में मदद मिलती है.

गर्भावस्था  में कच्चा पपीता का सेवन नहीं करना चाहिए (Raw Papaya Should Not Be Consumed In Pregnancy) 

गर्भावस्था में कच्चा पपीता का सेवन बहुत हानिकारक होता है, आइये जानते हैं  इसको खाने से होने वाले नुकसान

  • गर्भावस्था के दौरान कच्चा पपीता या अध पका पपीता का सेवन नही करना चाहिए

  • कच्चे पपीते में लेटेक्स और पपेन नामक पदार्थ पाया जाता हैजो गर्भाशय के संकुचन को बढ़ावा देता हैजिससे गर्भपात का खतरा होने की सम्भावना होती है. 

  • कच्चे पपीते के सेवन से भ्रूण को सहारादेने वाली महत्वपूर्ण झिल्लियों कमजोर हो जाती हैं 

  • कच्चे पपीते में मौजूदपपेन नामक पदार्थ पाया जाता है, जिससे एलर्जी होने की संभावना होती है. इसके अधिक सेवन से रिएक्शन के तौर पर सूजनचक्कर आनासिरदर्दचकत्ते और खुजली जैसी समस्याएं हो सकती हैं. 

(यह लेख सामान्य जानकारी के लिए है.  गर्भावस्था के दौरान पपीता का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें.)

English Summary: which type of papaya should be consumed during pregnancy

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News