Lifestyle

दूध और शहद एक साथ पीने के ऐसे फायदे, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे !

honey Milk

दूध और शहद प्रकृति का सबसे पवित्र खजाना है जो एक साथ मिल जाने पर हमारे शरीर के लिए कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है. इसके अलावा, यह सर्दियों के मौसम में आपका बहुत अच्छा साथी बन सकता है. दरअसल यह आपको सर्दियों में होने वाली की कई तरह की बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मदद करता है. शहद में कई तत्व पाए जाते है. इसमें मोनोसेकेराइड, फ्रुक्टोज और ग्लूकोज का उच्च स्तर मौजूद होता है. इसके साथ ही अगर दूध की बात करें तो इसमें कैल्शियम और प्रोटीन का उच्च स्तर होता है. इसके अलावा, शहद और दूध सर्दियों के मौसम में शरीर को गर्म रखने के लिए एक चमत्कार की तरह काम करता है. जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं. ऐसे में आइए जानते है इसके अद्भुत फायदों को बारे में.......

दूध और शहद के फायदे

पाचन में मदद करता है

विशेषज्ञों के अनुसार, शहद पाचन तंत्र में उपयोगी माना गया है. यह हमारे शरीर में अच्छे ’बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देता है. जब शहद की कुछ बूंदों के साथ हर दिन दूध का सेवन किया जाता है, तो यह हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है. इसलिए, इसका नियमित सेवन सूजन, कब्ज और ऐंठन को समाप्त करके आपको स्वस्थ रखता है.

honey milk

यह स्टैमिना बूस्टर का  काम करता है

एक शोध के अनुसार, ठंडा दूध और शहद सहनशक्ति को बेहतर बनाने की क्षमता रखता हैं. जब सुबह में एक गिलास दूध और शहद का सेवन किया जाता है, तो आपको कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और अन्य आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त होते हैं, जोकि दिन की एक नई शुरुआत के लिए आवश्यक होते हैं. जिससे आपका शरीर बूस्ट रहेगा और आप तंदरुस्त महसूस करेंगे.

कम नींद आने का इलाज करने में आपकी मदद करता है

यदि आप गहरी नींद न लेने से परेशान हैं तो आप बस शहद के साथ एक गर्म दूध का गिलास लें. दूध और शहद का सेवन लंबे समय से अनिद्रा और नींद में कठिनाई के उपाय के रूप में किया जाता है. यद्यपि वे दोनों नींद को बढ़ावा देने में अच्छे माने जाते हैं.

यह जीवाणुरोधी गुणों के साथ आता है

यह जीवाणुरोधी गुणों के साथ आता है. दूध और शहद दोनों को स्टेफिलोकोकस जैसे जीवों पर जीवाणुरोधी गुण होने के लिए जाना जाता है. हालांकि, जब एक साथ लिया जाता है, तो उनका प्रभाव अधिक मजबूत होता है. शहद के साथ गर्म दूध पीने से कब्ज, पेट फूलना और आंतों के विकार ठीक हो जाते हैं. वे ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण के खिलाफ भी प्रभावी हैं और सर्दी और खांसी को कम करते हैं.



Share your comments