1. लाइफ स्टाइल

चावल का ज्यादा सेवन डालता है सेहत पर बुरा असर, जानिए क्यों?

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

हर घर में चावल का सेवन ज़रूर किया जाता है. चावल से कई लाजबाव पकवान बनाए जाते हैं. भारत के पूर्वी और उत्तरी हिस्से में रोजाना चावल का सेवन किया जाता है. इसको लोग बड़े चाव के साथ खाते हैं. इसके सेवन के कई फायदे हैं, लेकिन इसका अत्यधिक सेवन भी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है. आइए आपको बताते हैं कि चावल का ज्यादा सेवन करना क्यों नुकसानदायक है.

आपको बता दें कि अगर आप रात के समय चावल का सेवन करते हैं, तो यह हमारे शरीर के लिए ज्यादा नुकसानदायक होता है, क्योंकि रात का खाना खाने के बाद हम सो जाते हैं. वैसे भी आजकल कई लोगों को शुगर और दिल से संबंधित बीमारियां ज्यादा होती है. एक अध्ययन में बताया गया है कि चावल का ज्य़ादा सेवन सेहत पर बुरा असर डाल सकता है.

इसी तरह आज के समय में शारीरिक श्रम न के बराबर रह गया है. ज्यादातर लोग ऑफिस वर्क करते हैं, उन्हें पूरे दिन एक जगह बैठकर भी काम करना होता है, इसलिए चावल का ज्यादा सेवन नुकसानदायक हो सकता है.

आज के समय में उगाया जाने वाला चावल ऑर्सेनिक होता है, इसलिए इसका सेवन स्वास्थ पर बुरा असर डालता है. एक शोध की मानें, तो चावल की खेती करने वाली भूमि की मिट्टी आर्सेनिक अधिक मात्रा में होता है, जो हमारे शरीर में पहुंचकर टॉक्सिन्स के साथ मिल जाता है. इससे हमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज की समस्या हो सकती है.

ये खबर भी पढ़े: सुबह के नाश्ते में बनाएं स्वादिष्ट पोहा ढोकला, जानें इसकी बनाने की विधि

अगर कोई धूम्रपान ज्यादा करता है, तो यह सेहत और दिल के लिए बहुत नुकसानदायक हो सकता है, इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए. अगर दिल को तंदरुस्त रखना है, तो धूम्रपान करने वाले चावल का ज्यादा सेवन न करें.

(यह लेख आपकी जानकारी के लिए है. अगर आपको कोई बीमारी है, तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.)

ये खबर भी पढ़े: हेडफोन की मदद से कम होगा मोटापा और ब्लड शुगर लेवल रहेगा नियंत्रित

English Summary: Excessive consumption of rice is detrimental to health

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News