Rural Industry

बेरोजगारों की जिंदगी में खुशियां लेकर आया मधुमक्खीपालन

बिहार राज्य के सुपौल में बेरोजगार युवाओं को रोजगारन्मुखों बनाने के लिए सरकार के द्वारा चलाया जा रहा कार्यक्रम अब लोगों की जिंदगी में मिठास घोलने का काम कर रहा है. दरअसल यहां पर पिछले तीन महीने से खेतों में सूरजमुखी के फूलों को उगाने के बाद बड़े पैमाने पर मधु को उगाने का उत्पादन हो रहा है. यह कम लागत में बेरोजगार युवाओं को मुख्य ध्येय बनने लगा है.

मधु हब के रूप में दिखा आम के बगीचे

आम के बगीचे कई जगहों पर इन दिनों मधुमक्खी और मधु हब संग्रह के रूप में दिखाई देने लगा है. इसमें सरसों और सूर्यमुखी की फसलें सहायक साबित हो रही है. प्रंखड में इन दिनों तेजी से मधुमक्खीपालन पर तेजी से कार्य किया जा रहा है जिससे काफी ज्यादा मुनाफा हो रहा है. यहां से गुजरने वाले लोग भी इस तरह के आम के बगीचे में मधु हब के रूप में विकसित होते देख काफी तेजी से आकर्षित हो रहे है. मधुमक्खीपालन रणवीर कुमार का कहना है कि पिछले एक महीने से क्षेत्र में सरसों के बाद सूर्यमुखी में खिले हुए फूल मधु के संग्रह में काफी सहायक साबित हुए है. वैसे तो सरसों के फसल का समय पूरी तरह से बीत चुका है. फिर भी अन्य फसलों में लगे हुए फूल से अब भी कुछ ज्यादा मधु का उत्पादन होने लगा है. मधुमक्खीपालन पालन को ले सर्टिफिकेट, कोर्स और डिग्री की व्यवस्था है जो बड़ें प्लांटों में काम आता है.

कम लागत में अधिक आमदनी

कृषि से जुड़े हुए युवा जो कि कम लागत में अधिक आमदनी की इच्छा रखते है, उनके लिए मधुमक्खीपलन ठीक साबित हो रहा है. पिछले कुछ वर्षों से न केवल लोगों का रूझान इसकी तरफ बढ़ा है बल्कि खादी ग्रामोउद्योग भी अपनी तरफ से कई सुविधाओं को मुहैया करवा रहा है.यह एक ऐसा व्यवसाय है जो कि ग्रामीणों के विकास का पर्याय बन गया है. यहां पर चार प्रकार की मधुमक्खी का पालन किया जाता है.

 एपिस मेलीफेरा  

 एपिस इंडिका

 एपिस डोरसाला

एपिस फ्लोरिया

इसके उत्पादन से कम लागत में ज्यादा आमदनी मिलती है.

शांत स्वभाव की होती है एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी

एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी अधिक शहद को उत्पादित करने और शांत स्वभाव की होती है. इनको डिब्बे में आसानी स पाला जा सकता है, इस प्रजाति की रानी मक्खी में अंडे देने की क्षमता भी अधिक होती है. मधुमक्खीपालन के लिए लकड़ी का बॉक्स, बॉक्स फ्रेम, मुंह पर ढंकने के लिए जालीदार कवर, दास्तानें, चाकू, शहद इकटठा करने के ड्रम को इकटठा करके रखना जरूरी है. बड़ी चीटीं, छिपकली, चूहे, गिरगिट, मधुमक्खियों के दुश्मन है.  

 



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in