1. ग्रामीण उद्योग

गुड़ बनाकर कमाएं मुनाफा, सरकार दे रही है लोन और प्रशिक्षण

Jaggery Business

भारत का नाम उन कुछ देशों में आता है, जहां चीनी की खपत सबसे ज्यादा है. यहां चीनी के साथ-साथ गुड़ की मांग भी सर्वाधिक है. यही कारण है कि गुड़ यहां वर्ष भर किराना दुकानों में आसानी से उपलब्ध रहते हैं. ऐसे में अगर आप भी गुड़ से जुड़ा कोई व्यापार करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए है.

गन्ना किसानों को होगा लाभ

इस काम को कोई भी शुरू कर सकता है, लेकिन इसके बनने की क्रिया को समझते हुए कहा जा सकता है कि ये सबसे अधिक गन्ना किसानों के लिए फायदेमंद है. इसलिए अगर आप गन्ने की खेती करते हैं, तो इस बिजनेस में आपका फायदा ही फायदा है.

आम लोगों के लिए भी है फायदेमंद

अगर आप एक आम आदमी हैं और गुड़ बनाने का काम शुरू करना चाहते हैं, तो भी आराम से इस काम को शुरू कर सकते हैं. लेकिन गुड़ बनाने के लिए आपको सबसे पहले गन्ना सीधे किसानों से प्राप्त करना होगा. अगर किसानों से गन्ने प्राप्त करने में दिक्कत आ रही है, तो आप गन्ने को मंडी भाव में भी खरीद सकते हैं.

गन्ने की कीमत

गन्ने का मूल्य मौसम, उत्पादन और मांग पर निर्भर करता है. इसके अलावा क्षेत्रों के हिसाब से भी इसके दामों में भिन्नता होती है. फिर भी अगर एक औसत दाम की बात करें तो मंडियों में गन्ने कीमत 2.55 से 4 रुपए प्रति किलो तक होती है.

गुड़ बनाने की मशीनों की कीमत

गुड़ बनाने के लिए कई तरह की स्वचालित मशीनें बाजार में उपलब्ध है, जिनके मूल्य लगभग 1 लाख रूपये से आरंभ होते हैं. वैसे आप इस काम को हस्तचालित मशीनों के सहारे करना चाहते हैं तो आपको 10,000 रूपए में भी अच्छी मशीन मिल जाएगी.

व्यापार की लिए ऋण

अगर आपके पास इस काम को शुरू करने के लिए पैसे नहीं है, तो आप सरकारी मदद भी ले सकते हैं. इस काम को शुरू करने के लिए खादी ग्राम उद्योग प्रशिक्षण केंद्र में जाकर आप गुड़ बनाने की प्रक्रिया सीख सकते हैं, वहीं अगर जैविक गुड़ बनाना चाहते हैं तो कृषि अनुसन्धान केंद्र में जाकर इसकी प्रक्रिया को समझ सकते हैं. लोन की अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं.

English Summary: government is giving training and financial help for jaggery making business know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News