1. ख़बरें

Business करने के लिए आसानी से मिलेगा 5 लाख रुपए, इस राज्य के लोग उठाएं लाभ

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के चलते छोटे कारोबोरियों को काफी नुकसान पड़ा है. इस बीच उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की सरकार छोटे कारोबारियों (Small Buisness) को बिजनेस बढ़ाने में सहयोग कर रही है. दरअसल, योगी सरकार (Yogi Government) छोटे कारोबोरियों को अपने प्रोडक्‍ट की मार्केटिंग के लिए 5 लाख रुपए की मदद दे रही है. राज्य की सरकार ने MSME को नई 'स्टार्ट अप नीति 2020' के तहत मार्केटिंग सहायता देने का फैसला किया है.

आपको बता दें कि नई स्टार्ट अप नीति 2020 को अधिसूचित कर दिया गया है. अब राज्य सरकार इस नीति को जल्द ही लागू कर देगी. इसके तहत राज्यभर में स्टार्ट अप और इन्क्यूबेशन सेंटर को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहन किया जाएगा. खबरों की मानें, तो IT एंड इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स विभाग नए स्टार्ट अप और MSME के वेंचर कैपिटल फंडिंग में मदद के लिए भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक के साथ मिलकर काम कर रहा है. इसकी मदद से लगभग सभी जिला उद्योग केन्द्र ऑनलाइन हैं. बता दें कि MSME द्वारा जिला उद्योग केंद्र को लेटर भरकर ऑनलाइन देने के बाद 72 घंटे में ही सुविधाएं मिलती हैं.

ये खबर भी पढ़े: 5 बिजनेस आइडिया घर बैठे देंगे अच्छी कमाई, जानें प्रमोट करने का आसान तरीका

जानकारी के लिए बता दें कि PHDCCI चेंबर के सदस्यों की संख्या डेढ़ लाख से ज्‍यादा है. इनमें से 70 प्रतिशत MSME हैं. चेंबर भारत को इंडस्ट्रियल हब बनाना है, इसलिए वह सरकार के साथ मिलकर काम कर रहा है. इसके अलावा मोदी सरकार ने MSME सेक्‍टर को मजबूत बबनाने के लिए कई तरह के बड़े ऐलान किए हैं. इनमें बिजनेस बढ़ाने के लिए प्रोत्‍साहन शामिल है, साथ ही लोन के ब्‍याज में सब्सिडी भी शामिल है. बता दें कि रजिस्टर्ड MSME को सब्सिडी और टैक्स छूट के साथ पूंजीगत सब्सिडी (Capital Subsidy) का लाभ दिया जाता है.

ये खबर भी पढ़े: कम निवेश वाले 10 बिज़नेस आइडिया, जो आपको बनाएंगे मालामाल

English Summary: Yogi government to provide assistance of Rs 5 lakh for small businesses

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News