1. ख़बरें

PM Fasal Bima Yojana: 16 सितंबर को एक बटन दबाने से किसानों के खातों में पहुंचेंगे 4,688 करोड़ रुपए, 20 लाख किसानों को मिलेगा लाभ

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Farmer

मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) ने किसानों को एक बड़ा तोहफा दिया है, जिससे किसानों एक बड़ी राहत मिलेगी. दरअसल, कृषि मंत्री ने कहा है कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana) के तहत 16 सितंबर को राज्य के करीब 20 लाख किसानों के खाते में राशि भेजी जाएगी. बताया जा रहा है कि इस योजना के तहत राज्य के किसानों के खाते में करीब 4688 करोड़ रुपये डाले जाएंगे.

खबरों के मुताबिक, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 16 सितंबर को एक बटन दबाकर साल 2019 के फसल बीमा की बकाया राशि करीब 4,688 करोड़ रुपए 20 लाख किसानों के खातों में भेज देंगे. बताया जाता है कि यह फसल बीमा राशि साल 2019 में दिया जाना था.

ये खबर भी पढ़े: बाढ़ प्रभावित जिलों के किसानों के लिए आगे बढ़ाई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आखिरी तारीख

Pm Fasal Yojana

आपको बता दें कि जब मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी, तब प्रीमियम बचाने के लिए फसल बीमा भुगतान 100 प्रतिशत से घटाकर 75 प्रतिशत कर दिया था. मगर अब इसे बढ़ाकर फिर से शत प्रतिशत कर दिया गया है. बताया जाता है कि फसल बीमा देने के मानकों में बदलाव किए जाने की वजह से ही लाभार्थी किसानों को साल 2019 के लिए फसल बीमा का करीब 1563 करोड़ रुपए कम मिल रहा है.

जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार की तरफ से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) शुरू की गई है. इस योजना को 13 जनवरी 2016 को शुरू किया गया था. इसके तहत किसानों को खरीफ की फसल के लिए 2 प्रतिशत प्रीमियम और रबी की फसल के लिए 1.5 प्रतिशत प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है. इस योजना का लाभ देश के हर किसान तक पहुंचाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही हैं.

English Summary: The Madhya Pradesh government will send Rs 4,688 crore of crop insurance to the accounts of 20 lakh farmers on September 16

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News