1. ख़बरें

बाढ़ प्रभावित जिलों के किसानों के लिए आगे बढ़ाई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आखिरी तारीख

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

केंद्र सरकार (Central Government) ने बाढ़ प्रभावित जिलों में किसानों को राहत देते हुए फसल बीमा (Crop Insurance) की तारीख 7 सितंबर तक बढ़ा दी है. इस दौरान मध्य प्रदेश के उन जिलों के किसानों को बड़ी राहत मिलेगी, जो किसान बाढ़ प्रभावित जिलों में खेती करते हैं. इसनेम रायसेन, सीहोर, होशंगाबाद, देवास और हरदा का नाम शामिल है. इन जिलों के किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रीमियम 7 सितंबर तक जमा कर सकते हैं.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का कहना है कि केंद्र सरकार ने फसल बीमा योजना की तारीख को आगे बढ़ाकर किसानों के हित में एक बड़ा फैसला किया है. बता दें कि इससे पहले प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आखिरी तारीख 31 अगस्त 2020 थी. मगर बाढ़ की वजह से कई किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा नहीं करा पाए थे, इसलिए प्रधानमंत्री फसल बीमा की तारीख को आगे बढ़ाने के लिए सीएम शिवराज और कृषि मंत्री कमल पटेल ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को पत्र लिखा था.

जानकारी के लिए बता दें कि बीते साल मध्य प्रदेश में लगभग 23 लाख किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में हिस्सा लिया था. इस साल लगभग 32 लाख किसानों ने प्रधानमंत्री बीमा योजना का प्रीमियम जमा कराया है. मगर 29 तारीख को बाढ़ आने की वजह से कई किसान फसल बीमा की राशि जमा नहीं कर पाए. इस पर राज्य के सीएम और कृषि मंत्री पत्र लिखा था. इस पत्र में फसल बीमा की तारीख को आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था. इस पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने 5 जिले रायसेन, सीहोर, होशंगाबाद, देवास और हरदा में फसल बीमा की तारीख बढ़ाने का फैसला किया है.

ये खबर भी पढ़े: Meri Fasal Mera Byora Scheme: हरियाणा सरकार ने आगे बढ़ाई रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख, जल्द करें इस लिंक से आवेदन

English Summary: Extended the last date of Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana for the farmers of flood affected districts of Madhya Pradesh

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News