1. ख़बरें

आपको भी मिल सकता है प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति स्कीम का फायदा, जानें क्या है योग्यता

प्राची वत्स
प्राची वत्स
Scholarship

Scholarship

शिक्षा ना केवल लोगों का मौलिक अधिकार है, बल्कि शिक्षा लोगों को और भी बेहतर और विकसित बनाने में मदद करता है. एक शिक्षित व्यक्ति ही समाज और खुद का कल्याण कर सकता है. मनुष्य को मानसिक रूप से मजबूत बनाने में मदद करता है.

एक शिक्षित व्यक्ति ही समाज और पूरे देश को सही राह पर लेकर जा सकता है. ऐसे में लोगों का शिक्षित होना उसके खुद के लिए और समाज के लिए बेहद जरुरी होता है. वहीं, शिक्षा प्राप्त करना प्रत्येक नागरिक का मूल अधिकार माना गया है.

अगर किसी आर्थिक कारणों की वजह से पढ़ाई में रुकावट आती है, तो इसकी जिम्मेदारी सरकार की होती है, कि वो किस तरह से इस समस्या का हल निकाल कर जन कल्याण करें. इस बात को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार के अलावा राज्य सरकारों द्वारा ई छात्रवृत्ति योजनाएं शुरू की गई हैं. इन्हीं योजनाओं में प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति स्कीम भी शामिल है. जिसके तहत देश के भूतपूर्व सैनिक, पूर्व तट रक्षक कर्मी, पुलिस कर्मी एवं रेलवे कर्मी जो आतंकी और नक्सली हमले के दौरान शहीद हुए हैं उनके बच्चों एवं विधवाओं को पढ़ाई में किसी तरह की कोई रुकावट ना आए इसके लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है.

इतना ही नहीं इसके अलावा भी इस योजना के तहत यदि पुलिस कर्मी, असम राइफल्स, आरपीएफ, आरपीएसएफ विकलांग हुए हैं तो इस स्थिति में भी उनके बच्चों को छात्रवृत्ति प्रदान दी जाती है. छात्रवृत्ति की राशि 2000 से 3000 रुपए तक तय की गयी है. इस योजना का लाभ उन सभी छात्रों को मिलेगा जिसने 12 वीं कक्षा में 60% अंक या उससे अधिक प्राप्त किया था. हालांकि, विदेश में पढ़ाई करने वालों को इस योजना का लाभ नहीं दिया जाता है.

कब भर सकते हैं फॉर्म

इस स्कीम के तहत हर वर्ष सितंबर-अक्टूबर में आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाती है. इस साल की बात करें तो आवेदन की प्रक्रिया 15 अक्टूबर को खत्म हो चुकी है. वहीं, जो छात्र इस योजना के लिए चयनित होंगे, उनके खाते में राशि 31 दिसंबर 2021 तक भेज दी जाएगी.

कौन-कौन कर सकता है आवदेन? 

इस योजना के तहत सभी कोर्स जो ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया, यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन, नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन ऑडी द्वारा मान्यता प्राप्त है वह सभी विद्यार्थी इसके योग्य माने जाएंगे.

ये भी पढ़ें: केंद्र सरकार और किसानों के संयुक्त प्रयास से जैविक खेती में हुई बढ़ोतरी: कैलाश चौधरी

छात्रवृत्ति की अवधि

प्रत्येक चयनित उम्मीदवारों को यह स्कॉलरशिप 5 वर्ष तक दी जाएगी. हालांकि, अगर कोई कोर्स 5 वर्ष से अधिक का है तो छात्रों को कोर्स ख़त्म होने तक योजना का लाभ दिया जाता है. योजना का लाभ उठाने के लिए छात्र इस लिंक पर https://www.desw.gov.in/prime-ministers-scholarship-scheme-pmss  क्लिक कर आवेदन कर सकते हैं.

चयन प्रक्रिया

अगर आवेदन की संख्या अधिक हुई, तो उस स्थिति में आवेदन मिलने पर चयन शहीद जवानों या फिर युद्ध या ड्यूटी के दौरान घायल हुए जवानों के ग्रेड के आधार पर किया जाएगा या जाता है.

English Summary: Students will get benefit under Prime Minister's Scholarship Scheme, know full news

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters