1. ख़बरें

ख़ुशख़बरी! राज्य सरकार ने किसानों के लिए खोला ख़जाना, करेगी 10 हजार करोड़ रुपए की मदद

प्राची वत्स
प्राची वत्स

Maharashtra Farmers

देश के अलग-अलग राज्यों में हो रही भारी बारिश की वजह से किसानों को काफी नुकसान हुआ है. ऐसे में राज्य सरकारों ने अपनी भूमिका अदा करते हुए किसानों के तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है.

इसी क्रम में महाराष्ट्र सरकार ने उन किसानों के सहायता हेतु 10 हजार करोड़ देने की घोषणा किया है, जिनकी फसल प्रदेश में भारी बारिश के कारण बर्बाद हो गई थी. राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उप मुख्यमंत्री अजीत पवार और लोकनिर्माण विभाग के मंत्री अशोक चव्हाण ने बैठक के बाद यह निर्णय लिया की किसानों को सरकार के तरफ से आर्थिक मदद दी जाएगी. जिसके बाद सरकार और मंत्रिमंडल ने इस बात की घोषणा की.

सरकार दे रही है किसानों को आर्थिक सहायता

उद्धव सरकार ने कहा,  आकड़ों के मुताबिक इस साल जून से अक्टूबर के बीच हुई भारी बारिश के कारण 55 लाख हेक्टेयर भूमि पर फसल को नुकसान पहुंचा है. किसानों को कुछ राहत पहुंचाने के लिये प्रदेश सरकार ने प्रभावित किसानों को 10 हजार करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता देने का फैसला किया है. इसमें कहा गया कि भारी बारिश के कारण जिन किसानों की फसलों का नुकसान हुआ उन्हें मुआवजा दिया जाएगा.

बयान के मुताबिक किसानों की जोत (यानि फसल कितने में लगाया गया था) का आकार चाहे जो हो उन्हें दो हेक्टेयर जमीन पर फसल के नुकसान के लिये मुआवजा दिया जाएगा. प्रदेश सरकार ने सहायता के वितरण के संदर्भ में एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा राहत कोष) के निर्देशों के लिए और इंतजार नहीं करने का फैसला किया है.

इसमें कहा गया कि गैर-सिंचित भूमि पर फसल के नुकसान के लिये किसान को 10 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर तथा सिंचित भूमि पर फसल के नुकसान के लिये 15 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें: राज्य सरकार की बड़ी पहल, बाढ़ से प्रभावित फसलों का देगी मुआवजा

आपको बता दें कि इससे पहले बिहार सरकार ने भी बारिश की वजह से क्षतिग्रस्त फसलों पर मुआवज़ा देने का ऐलान किया था. बिहार में यास तूफ़ान और मानसून की वजह किसानों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा था. जिसके बाद राज्य सरकार ने मदद के रूप में मुआवजा देने का ऐलान किया.

English Summary: State government opened treasury for farmers, will help financially

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters