MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

इस मंडी में 5664 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा गेहूं, एक ही सीजन में किसान हुए मालामाल!

किसानों को उनके फसलों की सही दर मिले, इसलिए केंद्र व राज्य सरकारें इसकी पूरी कोशिश कर रही हैं. इसी संदर्भ में मध्य प्रदेश के किसानों के लिए एक राहत भरी खबर आयी है, जहां उन्हें गेंहू के जबरदस्त दाम मिले हैं.

रुक्मणी चौरसिया

देश के विकास के लिए यह बहुत जरूरी है कि किसानों को उनकी मेहनत का सही भाव मिले सके. कभी-कभी ऐसा देखा जाता है कि मौसम की मार (Weather Strike on Crops) या बिचौलियों की चाल (Middlemen Trick in Agriculture) के चलते किसानों को उनकी फसलों का भाव पूर्ण रूप से नहीं मिल पाता है. यही वजह है कि किसानों के बीच हमेशा अपनी फसलों को सही दाम पर बेचने का डर सताया रहता है, लेकिन आज उनके लिए एक राहत भरी ख़बर आयी है.

शरबती गेहूं की हुई उच्च दामों पर बिक्री (Sharbati wheat sold at higher prices)

दरअसल, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में किसानों ने गेहूं (Wheat) को 5600 रुपये प्रति क्विंटल (5600 Per Quintal Wheat) के हिसाब से बेचा है. वहीं, राज्य के किसानों ने शरबती गेहूं (Sharbati Wheat) को आष्टा मंडी (Aashta Mandi) में 5664 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बेचा है. यहां के किसान गेहूं बिक्री में इतना मुनाफा पाकर काफी खुश नज़र आ रहे हैं.

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आष्टा मंडी के सेक्रेटरी ने कहा कि इस बार किसानों को शरबती गेहूं (Sharbati Wheat) के बहुत ही शानदार लाभ मिले हैं. जहां, राज्य के किसान शरबती गेहूं को इस सीजन में 5000 रुपये प्रति क्विंटल बेचते थे. वहीं, उन्होंने इस साल के सीजन में इसको 5664 रुपये प्रति क्विंटल की लागत से बेचा है.

शरबती गेहूं और इसकी पैदावार (Sharbati Wheat and its production)

शरबती गेहूं मध्य प्रदेश के सीहोर और विदिशा क्षेत्रों (Sehore and Vidisha regions of Madhya Pradesh) में उगाए जाने वाले गेहूं से प्राप्त आटे की एक क्षेत्रीय किस्म है. एमपी गेहूं (MP Gehu) उगाने का गड़ भी माना जाता है.

दिलचस्प बात यह है कि भारत में पंजाब गेहूं सहित सर्वोत्तम कृषि उपज के लिए जाना जाता है. हालांकि, MP का शरबती संस्करण पंजाब संस्करण से भी एक पायदान ऊपर है. यही वजह है कि यहां के किसानों को Sharbati Gehu के उचित दाम मिल पाएं हैं.

शरबती गेहूं की विशेषताएं (Features of Sharbati Wheat)

  • शरबती गेहूं को 'गोल्डन गेहूं' (Golden Wheat of India)के नाम से भी जाना जाता है.

  • यह दूसरे गेहूं के मुक़ाबले क्वालिटी में बहुत ही ज्यादा उच्च माना जाता है.

  • शरबती गेहूं स्वाद में मीठा और बनावट में बेहतर होता है.

  • शरबती आटे के दाने आकार में बड़े होते हैं और इसकी सुनहरी चमक होती है.

  • इस गेहूं के कई सारे स्वास्थ्य लाभ भी है और यह गुलेटिन फ्री (Gulletin free) है.

शरबती गेहूं के स्वास्थ्य लाभ (Health Benefits of Sharbati Wheat)

स्वास्थ्य एक और पहलू है जिसमें शरबती आटा (Sharbati Atta) अपना योगदान देता है. शहरी जीवन में खाने की गुणवत्ता में सुधार करना एक अहम कार्य बन गया है. जिसमें मोटापा एक प्रचलित स्वास्थ्य समस्या बन गया है. इसलिए शरबती आटे को आप अपनी जीवनशैली में अपना सकते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह गेहूं हमारे कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrates) सेवन को व्यवस्थित रूप से रोकता है. शरबती आटे की प्रत्येक सर्विंग में लगभग 110 कैलोरी होती है, जिसमें कुल कार्ब लगभग 23 ग्राम और 4 ग्राम आहार फाइबर होता है.

यह गेहूं पेट के लिए हल्का होता है. शरबती गेहूं मैग्नीशियम से भरपूर होता है. साथ ही इसमें कई ऐसे गुणकारी लाभ है, जिससे यह रक्त शर्करा नियंत्रण में मदद करता है. इसलिए, टाइप 2 मधुमेह रोगियों के लिए शरबती गेहूं के आटे का सेवन करना किसी रामबाण से कम नहीं है.

English Summary: Sharbati wheat Farming, Production and Price Published on: 25 March 2022, 11:28 AM IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News