1. ख़बरें

ए ग्रेड सेब की बढ़ेगी पैदावार, भंडारण के लिए खोले जाएंगे 5 निजी कोल्ड स्टोर

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

जम्मू-कश्मीर में सेब की बागवानी को काफी महत्व दिया जाता है. इसको बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार ने एक अहम फैसला लिया है. दरअसल, प्रदेश सरकार ने उच्च तकनीक वाली 5 निजी कोल्ड स्टोर परियोजनाओं को मंजूरी दी है. इसके तहत प्रदेश में सेब की सघन बागवानी पर विशेष कार्यक्रम चलाए जाएंगे. बता दें कि सघन बागवानी से पैदा होने वाला सेब उच्च गुणवत्ता का होता है. मगर बागवानों के पास स्टोरेज की उचित सुविधा नहीं होती है, जिससे बागवानों को सेब सीजन का अधिक मुनाफा नहीं मिल पाता है. ऐसे में प्रदेश सरकार ने 5 नए नियंत्रित वातावरण कोल्ड स्टोर परियोजनाओं को मंजूरी दी है.

बागवानों को किया जाएगा प्रोत्साहित

प्रदेश में चलाए गए कार्यक्रम के तहत जम्मू-कश्मीर के पर्वतीय इलाकों में सेब की सघन बागवानी करने वाले बागवानों को प्रोत्साहित किया जाएगा. खास बात है कि प्रदेश सरकार बाकायदा बागवानों को सब्सिडी दे रही है. इस तरह से उच्च गुणवत्ता वाले सेब की पैदावार बढ़ पाएगी. बता दें कि कोल्ड स्टोर क्षेत्र में निवेशकों को सब्सिडी देकर आकर्षित किया जा रहा है. इसके अलावा केंद्र सरकार को कई अन्य प्रस्ताव भी भेजे गए हैं, जिन्हें जल्द मंजूरी दी जा सकती है. बता दें कि सेब की बागवानी मुख्य रूप से कश्मीर संभाग में होती है, तो वहीं जम्मू संभाग के बर्फीले इलाके में भी सेब की बागवानी की जाती है.

ये खबर भी पढ़े: PM Kisan Scheme के तहत अभी भी करोड़ों किसानों को नहीं मिल रहा 6000 रुपए का लाभ, जानिए इसकी वजह?

आमदनी बढ़ाते हैं कोल्ड स्टोर

जानकारी के लिए बता दें कि बागवान सेब की तुड़ाई के बाद सीधे उन्हें मंडी भेज देते हैं, क्योंकि उनके पास भंडारण की व्यवस्था नहीं होती है. ऐसे में बागवान सीजन के दौरान ही उपज बेच देते हैं. इस कारण उन्हें उपज का कम दाम मिल पाता है. मगर अब कोल्ड स्टोर खुलने से सेब को ग्रेडिंग के बाद कोल्ड स्टोर में भेजा जाएगा. इसके भंडारण से बागवानों को अधिक से अधिक लाभ मिल पाएगा, क्योंकि वह ऑफ सीजन में भी सेब बेच पाएंगे.

ये खबर भी पढ़े: गन्ना किसानों के लिए खुशखबरी: वर्ष 2020-21 में 285 रुपए प्रति क्विंटल बिकेगी फसल, केंद्र सरकार ने 10 रुपए बढ़ाया FRP

English Summary: Five private cold stores to be opened for apple storage in Jammu and Kashmir

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News