1. मशीनरी

डीएसआर मशीन से धान की रोपाई करने से 10 दिन पहले तैयार होगी फसल, जानिए इसकी खासियत

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

Paddy Cultivation

देशभर के किसानों ने धान रोपने की तैयारी शुरू कर दी है. हमारे देश में अधिकतर किसान धान की खेती को प्रमुखता देते है. इसी कड़ी में हरियाणा सरकार ने अपने राज्य के किसानों को एक महत्वपूर्ण सलाह दी है.

दरअसल, हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने किसानों को एक खास मशीन के बारे में बताया है, जिससे किसान धान की खेती (Paddy Cultivation) करते समय पानी की बचत कर सकते हैं. इसे डीएसआर मशीन (Direct Seeder Rice) का नाम दिया गया है. किसानों को इस मशीन से धान रोपने (Paddy Cultivation) की सलाह दी जा रही है. आइए आपको इस मशीन के बारे में जानकारी देते हैं.

क्या है डीएसआर मशीन (What is DSR machine)

इस मशीन द्वारा धान की रोपाई (Paddy Cultivation) करने से पानी की अच्छी बचत होती है, तो वहीं फसल भी लगभग 10 दिन पहले पककर तैयार हो जाती है. आमतौर पर किसान धान (Paddy Crop) के सीजन में लगभग 15 जून से पारंपरिक विधि से पौध तैयार करके रोपाई करने लगते हैं. इस विधि में खेत में पानी भरकर रोपाई की जाती है. इसके बाद भी खेत में पानी (Water) बनाए रखना पड़ता है. तापमान अधिक होने की वजह से पानी का वाष्पीकरण बहुत अधिक मात्रा में होता है, साथ ही इसमें मेहनत भी ज्यादा लगती है.

कैसे करें डीएसआर मशीन से बिजाई (How to sow with DSR Machine)

किसान भू-जल, लेबर और समय की बचत करने के लिए धान की सीधी बिजाई डीएसआर मशीन (DSR Machine)  द्वारा कर सकते हैं. इस मशीन का उपयोग करने से पहले खेत में लेजर लेवलर द्वारा समतल किया जाना जरूरी है. इसके बाद पानी से तर-बतर अवस्था में धान की सीधी बिजाई की जा सकती है. बता दें कि इस विधि से बिजाई करने में 15 से 20 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है.

10 दिन पहले तैयार होगी फसल (Crop will be ready 10 days before)

इस मशीन से रेतीली जमीनों में धान की बिजाइ नहीं करना चाहिए. किसानों के केवल उन्हीं खेतों में बिजाई करना चाहिए, जिसमें पहले से ही धान की खेती हो रही हो. धान की सीधी बिजाई करने से जहां एक ओर पैदावार रोपाई करके लगाई गई धान की फसल के बराबर मिलती है, तो वहीं दूसरी ओर फसल 7 से 10 दिन पहले पककर तैयार हो जाती है. इस वजह से धान की पराली संभालने के लिए समय मिल जाता है, साथ ही गेहूं व सब्जियों की बिजाई करने के लिए अधिक समय मिल जाता है.

फ्री में मिलेगी मक्का बिजाई की मशीन (Maize Sowing Machine will be available for free)

खास बात यह है कि जो किसान धान की खेती छोड़कर मक्का (Maize) की खेती करना चाहते हैं, वह मेज पलान्टर द्वारा मेड़ों पर मक्का की बिजाई कर सकते हैं. इस तरह पानी की ज्यादा बचत होती है.

कृषि यंत्रों मिलेगा अनुदान (Agricultural Machines will get grant)

इन दोनों कृषि यंत्रों (Agriculture Machinery) को खरीदने पर अनुदान उपलब्ध करवाया जा रहा है. यह अनुदान कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा मिल रहा है. बता दें कि विभाग डीएसआर मशीन ‘पहले आओ-पहले पाओ’ के आधार पर बुक करता है. इसके साथ ही मक्का बिजाई मशीन फ्री में मिल रही है. इसके लिए किसानों को अपना आधार-कार्ड कार्यालय में जमा करना होगा. इसके बाद मशीनों का लाभ उठा सकते हैं.

English Summary: haryana government advised to sow paddy with dsr machine

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News