हलवा है !

हलवा है !

अपनी राजनीति बोले तो हलवा है

यहां कोई किसी के ऊपर है

तो कोई किसी का तलवा है

हलवा है!

 

पहले कोई बोला नहीं

अब बोल ही बोल हैं

उसी का जलवा है

सचमुच हलवा है!

गंगा-गंगा करने वालों

गंगा में सिर्फ मलवा है

हलवा है!

 

एक हाथ में कमल है

एक हाथ में झाड़ू

एक विराजे हाथी पर तो

एक की साईकल चालू

सबको चुनकर संसद भेजा

इसी का ये सब फलवा है

हलवा है, भैया हलवा है!

 

गिरीश पांडे, कृषि जागरण

Comments