Poetry

हलवा है !

हलवा है !

अपनी राजनीति बोले तो हलवा है

यहां कोई किसी के ऊपर है

तो कोई किसी का तलवा है

हलवा है!

 

पहले कोई बोला नहीं

अब बोल ही बोल हैं

उसी का जलवा है

सचमुच हलवा है!

गंगा-गंगा करने वालों

गंगा में सिर्फ मलवा है

हलवा है!

 

एक हाथ में कमल है

एक हाथ में झाड़ू

एक विराजे हाथी पर तो

एक की साईकल चालू

सबको चुनकर संसद भेजा

इसी का ये सब फलवा है

हलवा है, भैया हलवा है!

 

गिरीश पांडे, कृषि जागरण



English Summary: Pudding!

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in