Poetry

जोगिरा सारा..रा...रा

रंगों का त्यौहार है

ये प्रेम का कारोबार है

ढोल-नगाड़ों और गायन में सब गा..रा...रा

जोगिरा सारा...रा....रा

 

गुजिए की मिठास है

पकवानों की तलाश है

समोसे, लड्डू, रसमलाई सब खा..रा...रा...

जोगिरा सारा...रा....रा

रंग, अबीर और गुलाल

सब के चहरे लाल-लाल

मस्ती का रंग छा...रा..रा..रा

जोगिरा सारा.....रा....रा

 

बरसाने की राधा और मथुरा में ताल

हर घर से निकले देखो बाल-गोपाल

हर घर में बंसी वाला आरा....रा....रा

जोगिरा सारा....रा.....रा



Share your comments