Poetry

कैसे करें देश की सेवा ?

ज़रुरी नहीं आप फौज में जाएं

ज़रुरी नहीं आप पत्रकार बनें

कूड़े को कूड़ेदान में डालकर

एक नेक इंसान बनें

                               ज़रुरी नहीं आप डॉक्टर बनकर

                               विज्ञान का कोई निशान बने

                               मिट्टी को माथे पर लगाकर 

                               देश का एक किसान बनें

ज़रुरी नहीं आप इंजीनियर हों या

राजनीति में आपका नाम बने

पेड़ लगाकर, कुएं खुदवाकर

समाजसेवी महान बनें

                             कौन करता है क्या, किसकी नियत है कैसी

                             तर्क और आकड़ों से चुनाव करें

                             कोई पसंद नहीं तो 'नोटा' दबाएं

                             लेकिन मतदान ज़रुर करें



Share your comments