Poetry

क्यों न करें मिट्टी पर नाज़ !

जिस मिट्टी में जन्म हुआ

जो है हमारे सर की ताज

पाल रही है जो हमें

क्यों न करें उस पर नाज़ !

                               सौंधी खुशबू है जिसमें

                               जिसपर भोगे सारे राज

                               सिर्फ समर्पण है भाव जिसका

                               क्यों न करें उस पर नाज़ !

नाच-गाने सब खेल-खिलौने

और दूसरे काम-काज

सीचा है इस मिट्टी ने हमें

क्यों न करें इस पर नाज़ !

                               सब खाते हैं इसकी रोटी

                               कुत्ता, बिल्ली, सियार, बाज़

                               अहसान नहीं धन्यवाद के लिए

                               ज़रुर करो मिट्टी पर नाज़ !



Share your comments