Poetry

हम हैं कृषि जागरण

सूरज की किरणों ने, सुबह को जगाया है

देख फसल लहलहाती, किसान भी मुस्काया है

जब से किसान ने अपनाया यह आचरण

किसान का दोस्त बना कृषि जागरण

 

धरती मुस्कराई, अंबर भी मुस्कुराया

किसान ने अपनाया, नया ढंग, नया आचरण

सबको जानकारी देता कृषि जागरण

Krishi Jagran

भारत देश महान है, विकास की पहचान है

गंगा की निर्मलता और सूरज का आवरण

हर पल हर जगह कृषि जागरण

 

अलग धर्म है अलग जाति

प्रेम है सबका एक निवारण

हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई

सब पढ़ते हैं कृषि जागरण

बारह हैं भाषाएं, 22 हैं राज्य

रहेगा सालों का अनुभव और आमरण

खेती, किसान और पशुपालन

हम हैं कृषि जागरण

 

नयी तकनीक और जानकारी

किसानों की खुशी का नया कारण

सुख, समृद्धि और वैभव

हम हैं कृषि जागरण



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in