डायबिटीज के मरीजों के लिए दिवाली पर खास है ये मिठाईयां

दिवाली का त्यौहार शुरू हो चुका है जिसके साथ ही घरों में साजों सामान, कपड़े, फल-फूल आदि की खरीददारी भी शुरू हो चुकी है। ऐसे में त्यौहार पर सबसे जरूरी चीज है मिठाईयां। दिवाली जैसे त्यौहार में मिठास ना हो ये भला कैसे संभव है। लेकिन इसी बीच सबसे ज्यादा ध्यान डायबिटीज के पेशेंट को रखना पड़ता है। डॉक्टर अक्सर ऐसे मरीज को सलाह देते है कि वह कम से कम मिठाई खाएं या फिर उनसे दूर ही रहें। मधुमेह के रोगियों के लिए तो मीठा जानलेवा भी साबित हो सकता है। हालांकि समय के साथ खान-पान का स्तर भी काफी बदला है और दिवाली पर कुछ ऐसी मिठाईयां भी आई है जो कि शुगर फ्री है जिन्हें डायबिटीज के मरीज बड़ी ही आसानी से खा भी सकते है। तो आइए जानते है ऐसी मिठाईयों के बारे में जो आपके जीवन में मिठास को घोलती है :

शुगर फ्री बेसन लड्डू :

त्यौहार के समय बेसन, घी, छेर सारी चीनी से बने बेसन के लड्डू भला किसे पंसद नहीं होंगे. आपके इसी स्वाद और सेहत के बारे में ध्यान रखते हुए विक्रेता और ई-कॉमर्स कंपनियों के पास इस तरह के कई विकल्प उपलब्ध रहेंगे जिसमें चीनी बिल्कुल भी उपलब्ध नहीं रहती है और खाने में यह मिठाई भी काफी स्वादिष्ट होती है।

खजूर रोल :

सर्दियों के साथ ही त्यौहार में खजूर रोल एक बेहद ही पसंदीदा मिठाई है। आप बादाम के टुकड़ों के साथ गर्निश किए खजूर रोल को खा सकते है, जो कि आपके स्वास्थय के लिए काफी अच्छा है।

फेनी :

यह एक प्रकार की राजस्थानी मिठाई है जो कि बीकानेर में सर्वाधिक रूप से मिलती है। आटे, चीनी व शुद्ध घी से बनने वाली यह मिठाई आजकल शहद से तैयार की जाती है।

सेब की खीर :

दिवाली पर इस शुगर फ्री को बनाने के लिए आपको मैश किया हुआ एक सेब, खजूर, अखरोट की जरूरत है। खास बात है कि इसके भरपूर स्वाद तो होता है जो कि आपके सेहत को भी काफी ज्यादा स्वस्थ रखने में मदद करता है।

खजूर नारियल तेल :

यह रोल खजूर, बादाम और एक कप ग्रेट किए हुए नारियल से बनाया जाता है। जिसमें फाइबर भी होता है ये शुगर के मरीजों के लिए बेहद ही लाभकारी होता है।

अंजीर बर्फी :

अंजीर की बर्फी आपकी सेहत के लिए किसी भी वरदान से तो कम नहीं है। अंजीर से बनी बर्फी में रिफाइंड शुगर बिल्कुल नहीं होती है। यह खास मिठाई काजू, बादाम, पिस्ता, अंजीर, घी और शहद से बनाई जाती है।

लौकी का हलवा :

त्यौहार के सीजन में आप लौकी के हलवे को भी आसानी से खा सकते है। वसा, घी, दूध, इलायची पाउडर और स्टेविया डालकर इस हलवे को बनाया जाता है।

किशन अग्रवाल, कृषि जागरण

Comments