Lifestyle

Maha Shivratri: भगवान शिव के उपवास में भूलकर भी न करें इन व्यंजनों का सेवन

Maha Shivratri

हिन्दू धर्म में महाशिवरात्रि का पर्व बहुत श्रद्धा से मनाया जाता है. यह भगवान शिव का मुख्य पर्व है. इस दिन शिव भक्त उपवास रखकर भगवान शिव की आराधना करते हैं. यह पर्व फाल्गुन की चतुर्दशी को पड़ता है. मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ने माता पार्वती से विवाह किया था, इसलिए इस दिन उपवास और पूजा करके भगवान शिव को प्रसन्न किया जाता है, जिससे भक्तों की सारी मनोकामना पूरी होती है, लेकिन कई बार हम उपवास में कुछ ऐसा खा लेते हैं, जिनका सेवन उपवास में नहीं करना चाहिए, तो आइए आपको बताते हैं कि महाशिवरात्रि के उपवास वाले दिन आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.

फलों और चाय का सेवन  करें

महाशिवरात्रि के उपवास में चावल, दाल, गेहूं से बने कोई भी खाद्य पदार्थों को नहीं खाना चाहिए. इस उपवास में केवल फल, दूध, चाय, कॉफी आदि का ही सेवन करें.

ऐसा हो खान-पान

इस उपवास को रखने की प्रथा सालों पुरानी है. कई लोग निर्जला उपवास भी रखते हैं, तो वहीं कुछ लोग केवल ड्राई फ्रूट्स खाते हैं. इस  दिन आप कुट्टू का आटा, सेंधा नमक, आलू, साबुदाना से बने व्यंजन खा सकते हैं. इन व्यंजनों को तेल में न बनाकर घी में बनाना अच्छा रहता है.

सिंघाड़े के आटे से बनाएं कटलेट

आप उपवास में खाने के लिए सिंघाड़े के आटे से कटलेट भी बना सकते हैं. इसके अलावा गाजर के साथ आलू और शिमला मिर्च जैसी सब्जियों को घिसकर उनका मिश्रण तैयार कर लें. अब इसमें सेंधा नमक, मिर्च डाल दें और फिर उसका गोला बनाकर तेल में फ्राई कर लें. बता दें कि इन कटलेट में काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है.

दूध से बनी ठंडाई पिएं

आप दूध से बनी ठंडाई भी पी सकते हैं. इस ठंडाई में कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है, जो आपके पेट के लिए अच्छी रहती है. आप ठंडाई में बादाम, पिस्ता, काजू समेत कई तरह के ड्राई फ्रूट्स डाल सकते हैं. इसके अलावा केसर, शक्कर, इलायची, सौंफ डालें. खास बात है कि इससे आपका शुगर लेवल भी ठीक रहता है.

ये खबर भी पढ़ें:पैक हाउस खोलने पर 70-90 प्रतिशत सब्सिडी, किसानों के खेत से सब्जियां खरीद सकेंगी कंपनियां



English Summary: special care should be taken in fasting of maha shivratri

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in