Lifestyle

ग्रीष्मकाल में होने वाली कुछ समस्याएं, जाने इनकी रोकथाम

गर्मी के मौसम की शुरुआत हो गई है ऐसे में हमें कई आम समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. हम में से ज्यादातर लोगों को गर्मी का मौसम अच्छा लगता हैं, लेकिन यह मौसम अपने साथ कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का एक समूह भी लाता है. इस गर्मी और आर्द्रता के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली भी प्रभावित होता है. इस अवधि के दौरान लोग पाचन, त्वचा, मौसमी फ्लू और संक्रमण की समस्याओं के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं. पिछले वर्ष भारत का आधा हिस्सा गर्मी की मार से जूझ रहा था, बिहार में कई लोगों की गर्मी के कारण मौत हो गई थी. इसलिए, ग्रीष्मकाल के लिए अग्रिम तैयारी की जानी चाहिए. तो ऐसे में आज हम आपको इस लेख में गर्मियों में खुद को गर्मी की मार से बचाने के लिए कुछ घरेलू उपाय बताएंगे तो आइए जानते है इन उपायों के बारे में...

ग्रीष्मकाल में होने वाली  कुछ समस्याएं: -

 इस मौसम में लोगों के सामने आने वाली समस्याओं में से एक आंखों में पानी, जलन, नाक और गले की एलर्जी है.

इस मौसम में मच्छरों और मक्खियों की संख्या बहुत बढ़ जाती है और उनके काटने से मलेरिया, डायरिया जैसी बीमारियां जन्म लेती है.

 इस मौसम में कुछ लोगों को पाचन संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

गर्मियों में सिरदर्द होना, नाक के बजाय मुंह से सांस लेना, कान बंद होना, गले में खराश और नींद कम आना भी समस्या है.

 हीट स्ट्रोक कई लोगों की गर्मियों की प्रमुख समस्या में से एक है.

चकत्ते और पैर में संक्रमण होना

 कुछ सामान्य घरेलू उपचार :

गर्मियों के दौरान आपको उन कपड़ों को पहनना चाहिए जो वजन में हल्के हैं और जिनकी फिटिंग ढीली हो, ताकि आपके शरीर को अच्छे से हवा लगे.

जितना हो सके अपने आप को हाइड्रेटेड रखें, गर्मियों के दौरान बड़ी मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें जो  शरीर के सामान्य तापमान को बनाए रखने में मदद करें जैसे - आलूबुखारा, धनिया, पुदीना पत्ता और एलोवेरा जूस हीट स्ट्रोक की रोकथाम में मदद करता है.

 डिहाइड्रेशन  से कैसे बचें:

डिहाइड्रेशन का इलाज करने के लिए सबसे अच्छा तरीका बहुत सारा पानी और तरल पदार्थ पिये. वयस्कों के लिए, डॉक्टर हर दिन 2 लीटर पानी पीने की सलाह देते हैं. डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए आपको प्याज का रस, छाछ और नारियल पानी जैसे तरल पदार्थ पीने चाहिए.

सनबर्न से कैसे बचें:

बाजार में मिलने वाली सनस्क्रीन या सनब्लॉक क्रीम लगाकर आप सनबर्न से बच सकते हैं. धूप में निकलने से 15 से 30 मिनट पहले इन सनस्क्रीन क्रीम को लगाएं. सनबर्न को ठीक करने के लिए आप मिल्क क्रीम का उपयोग कर सकते हैं या फिर आप अपने चेहरे पर एलोवेरा लगा सकते हैं.

रैशेज से कैसे बचें:

 नियमित रूप से स्नान करें और साफ, खुले, हल्के और हवादार कपड़े पहनें. जितना हो सके तंग कपड़े पहनने से बचें.  



English Summary: Some summer problems, prevention of them

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in