1. लाइफ स्टाइल

Pain killer खा रहे है तो पहले जान ले इसके नुकसान

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा

आवश्यकता से अधिक काम करने पर और आराम न करने पर, सिरदर्द या बदन दर्द होने लगता है. दर्द से राहत पाने के लिए बहुत से लोग पेन किलर दवाओं का सेवन करने लगते है. ये दवाएं कुछ ही देर में शरीर को दर्द से राहत दिला देती है लेकिन हम नहीं जानते की जल्दी राहत पहुचाने वाली ये दवाएं आगे चलकर हमारे शरीर के लिए कितनी नुकसानदायक हो सकती है. आज हम आपकों यही बताएंगे की पेन किलर दवाए स्वास्थ्य को कितना नुकसान पहुंचा सकती है.

लीवर पर प्रभाव  (Liver Problem)

पेन किलर दवाइयों में एसिटामिनोफेन होता है. जिसे खाने पर हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इसे आवश्यकता से अधिक खाने पर लीवर खराब भी हो सकता है. इसके साथ ही यह किडनी को भी नुकसान पहुंचती है.

पेट में अल्सर (Stomach Ulcer)

पेट में अल्सर की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है. इसका कारण सही तरीके से भोजन न करना या पेन किलर दवाएं भी हो सकती है क्योंकि पेन किलर दवा में एसपीरिन ज्यादा होती है. जो पेट से जुड़ी हुई समस्याओं को बढ़ा देते है.

गर्भपात (Abortion)

प्रैग्नेंट महिलाओ को पेन किलर दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए. इस अवस्था में दवाओं का ज्यादा सेवन करने से कई बार गर्भपात भी हो जाता है. गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर की सलाह से ही दवा लेनी चाहिए.

ब्लड प्रेशर बढ़ना (High Blood Pressure)

बार-बार दर्द की दवा खाने से व्यक्ति को इन दवाओं की लत लग जाती है. इन दवाओं को लगातार खाने से खून पतला पड़ जाता है, जिससे खून जमने लगता है और ब्लड प्रेशर बढ़ने का खतरा हमेंशा बना रहता है.

डिप्रेशन का कारण (Depression)

दर्द का दवा हमेंशा खाने से कई बार डिप्रेशन कि समस्या भी होने लगती है इसलिए जितना हो सके दर्द की दवाओं का कम से कम सेवन करना चाहिए.

हार्ट अटैक का कारण (Heart Attack Problem)

पेन किलर दवा खून को दूषित करता है जिससे हार्ट अटैक, हार्ट- फैलियर जैसी समस्याए होने लगती है.

English Summary: PainKiller side effects: If you are eating a pain killer then know its loss first

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News