1. लाइफ स्टाइल

अगर कईं दिनों से नाक बंद है तो इसे हल्के में न लें !

गिरीश पांडेय
गिरीश पांडेय

आज के समय में बीमारियों का आलम ऐसा है कि यह किसी को भी और कभी भी अपना शिकार बना सकती हैं. हवा और पानी के प्रदुषित होने की वजह से हमारा शरीर हमेशा बीमारियों की चपेट में रहता है. ये तो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता है जो हमें बीमार नहीं होने देती. परंतु जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर या कम होती है उनको रोग जल्दी अपने जकड़ में ले लेते हैं. और यही वजह है कि वह एक महीने में 2 से 3 बार किसी न किसी बीमार के शिकार हो ही जाते हैं. कभी उन्हें बुखार आ जाता है तो कभी खांसी. परंतु ज़ुकाम एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति को सबसे पहले लगती है. इसलिए आज हम इस लेख के माध्यम से आपका ध्यान एक ऐसी बीमारी की तरफ दिला रहे हैं जिसे हम अक्सर नज़रअंदाज़ कर देते हैं-

15 दिन से अधिक नाक बंद है

नाक बंद होने के कईं कारण होते हैं परंतु हमें लगता है कि हमें ज़ुकाम है जो 2 से 3 दिन में ठीक हो जाएगा. परंतु यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि अगर 2 से 3 दिनों में आपकी नाक नहीं खुलती तो फिर यह चिंता का विषय है और आपको यह देखना होगा कि कहीं आपको कुछ और दिक्कत या परेशानी तो नहीं है. क्योंकि सामान्य तौर पर बंद नाक 2 से 3 या 4 दिनों में खुल जाती है.

ज़ुकाम नहीं है तो क्या है ?

अगर आपको ज़ुकाम नहीं है तो आपको नज़ला हो सकता है जिसे अंग्रेजी में 'साइनस' भी कहते हैं. इसके अलावा यह भी हो सकता है कि आपके नाक की हड्डी बढ़ गई हो क्योंकि यह एक ऐसी सामान्य तकलीफ है जो आमतौर पर लोगों को हो जाती है. नाक की हड्डी बढ़ने से हमारी स्वास नली में बलगम जमना शुरु हो जाता है जिससे सांस लेने में तकलीफ महसूस होती है.

सर दर्द न हो जाए इससे पहले करा लें इलाज

यदि नाक को बंद हुए 1 महीने से ज्यादा समय हो गया है तो आपको सर का दर्द भी परेशान करेंगा. क्योंकि नाक और श्वास का संबंध सीधा सर की नसों से होता है और नाक को बार-बार झेड़ने से आपको सिरदर्द की शिकायत हो सकती है. इसलिए जितना जल्दी हो सके डॉक्टर को दिखाएं.

English Summary: how to treat nasal polyps

Like this article?

Hey! I am गिरीश पांडेय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News