1. लाइफ स्टाइल

शतावरी की सब्जी के सेवन से होगा कैंसर, डायबिटीज, कब्ज जैसी बीमारियों का इलाज

Satawari

Satawari

शतावरी एक वसंत ऋतू में उगाई जाने वाली सब्जी है. यह कई पोषक तत्वों से भरी सबसे शक्तिशाली सब्जियों में से एक है.ये उन स्वस्थ और स्वादिष्ट हरी सब्जियों में शामिल है जो आपके स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है और कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है. शतावरी भारतीय बाजार में आसानी से उपलब्ध है.

और इसे 'सतावर' के नाम से भी जाना जाता है यहां तक ​​कि आप इसे आसानी से अपने किचन गार्डन में भी उगा सकते हैं. तो आइये बताते है इसके फायदों के बारे में और कि किन कारणों से आपको सर्दियों में इस स्वादिष्ट सब्जी का आनंद लेना चाहिए. यह एक पोषक तत्व से भरपूर सब्जी है जो फाइबर, फोलेट, विटामिन ए, सी, ई और के का बहुत अच्छा स्रोत है, साथ ही क्रोमियम, एक ट्रेस मिनरल है जो कोशिकाओं में रक्तप्रवाह से ग्लूकोज परिवहन करने के लिए इंसुलिन की क्षमता को बढ़ाता है. इसके अलावा, यह आपके रक्त शर्करा को भी नियंत्रित रखता है.

वजन घटाने के लिए फायदेमंद

अगर आप बढ़ते वजन से परेशान है तो आपको इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है, जिससे वजन को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलती है.

प्रेग्नेंसी में सहायक

इसका सेवन गर्भावस्था के दौरान करने से बहुत फायदा होता है क्योंकि इसमें मौजूद फोलेट एक जरूरी पोषक तत्व है जो गर्भवती महिलाओं के साथ शिशुओं के स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होते है. इसलिए इस हालत में आपको  प्रतिदिन 4 मिलीग्राम तक इसका सेवन करना चाहिए.

त्वचा को जवां बनाने में लाभकारी

इसके रोजाना सेवन आपकी त्वचा को जवां रहने में मदद करता है.  इसके साथ ही यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने और सूजन को कम करने में मदद करती है. 

कैंसर समस्या से बचाव

इसका रोजाना सेवन करने से कैंसर जैसी समस्या से आपको निजात मिलती है क्योंकि इसमें मौजूद तत्व आपके शरीर को कैंसर रोगी तत्वों से बचाते है. इसके साथ ही कई तरह के बैक्टीरिया से भी निजात दिलाते है.

मधुमेह और कब्ज से निजात

अगर आप इसका सेवन हफ्ते में तीन बार करते है तो इससे मधुमेह जैसी समस्या से काफी हद तक रहता मिलती है और ये कब्ज से राहत दिलाने में भी बहुत फायदेमंद माना गया है.

English Summary: health benefits of eating satawari (Asparagus )

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News