1. लाइफ स्टाइल

रात के खाने में बची इन 6 चीजों को गर्म कर खाने से बचें, सेहत के लिए रहेगा फायदेमंद

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Health Tips

Health Tips

कई बार हम रात का बासी खाना गर्म करके खा लेते हैं, तो कभी कम समय होने की वजह से कई लोग ऑफिस में भी रात का खाना ले जाते हैं. मगर क्या आप जानते हैं कि रात का बासी खाना दोबारा गर्म करके खाना स्वास्थ्य के लिए कई सारी परेशानियों खड़ी कर सकता है. 

जी हां, आपको रात के खाने का सेवन बीमार बना सकता है, क्योंकि बासी खाने को गर्म करने पर उसमें पाए जाने वाले कंपाउंड में कुछ बदलाव आ जाते हैं. यह सेहत के लिए उचित सही नहीं रहता है. आइए आपको बताते हैं कि कौन से खाद्य पदार्थों को दोबारा गर्म करके नहीं खाना चाहिए.

चावल

कई लोग सबसे ज्यादा रात के चावल को गर्म करके खाते हैं, लेकिन रात के चावलों को दोबारा गर्म करके नहीं खाना चाहिए. यह पाचन के लिए सही नहीं रहता है. फूड्स स्टैंडर्ड्स एजेंसी (FSA) की मानें, तो इससे आपको फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है.

पालक

यह आयरन से भरपूर होता है, लेकिन रात की बची पालक की सब्जी को गर्म करके खाने से सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ता है. बता दें कि पालक में पाए जाने वाला नाइट्रेट दोबारा गर्म करने से विषाक्त तत्वों में बदल जाता है. इससे कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है.

आलू

इसे सब्जियों का राजा कहा जाता है, लेकिन रात की बची हुई आलू की सब्जी को गर्म करके खाने से पेट से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं. बता दें कि रात के रखे हुए आलू के पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं.

अंडा व चिकन

रात का बासी चिकन और अंडा भी नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इनमें प्रोटीन की मात्रा अधिक पाई जाती है, लेकिन रात का चिकन और अंडे को गर्म करके खाने से प्रोटीन कॉम्पोजिशन में बदलाव आ जाता है, जो सेहत के लिए हानिकारक है.

मशरुम

इससे कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं. इसमें कई पोषक तत्व और प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है, लेकिन रात में बची मशरुम की सब्जी  को गर्म करके नहीं खाना चाहिए. इससे स्वास्थ्य को काफी नुकसान होता है.

चुकंदर

यह हमारे स्वास्थय के लिए काफी लाभकारी माना जाता है, क्य़ोंकि यह कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है. मगर रात में बची इसकी सब्जी को दोबारा गर्म करके नहीं खाना चाहिए. इससे स्वास्थ्य  पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

English Summary: Disadvantages Of Eating Stale Food

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News