1. सरकारी योजनाएं

खुशखबरी: मछली पालन के लिए महिलाओं को मिल रही 60 प्रतिशत सब्सिडी, जल्द उठाएं लाभ

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

Fish Farming

आजकल अधिकतर युवा नौकर छोड़ खुद का बिजनेस शुरू करना की चाह रखते हैं, क्योंकि आज के समय में नौकरी की तुलना में बिजनेस से अच्छी कमाई की जा सकती है. 

ऐसे में अगर बिजनेस की बात करें, तो इस वक्त अधिकतर लोग एग्रीकल्चर बिजनेस (Agriculture Business) की तरफ ज्यादा रूचि दिखा रहे हैं. अब अगर एग्रीकल्चर बिजनेस की बात करें, तो मछली पालने का बिजनेस आमदनी का एक ऐसा जरिया है, जो आपको मालामाल कर देगा.

हर राज्य की सरकारें भी मछली पालन (Fish Farming) को बढ़ावा देने के लिए योजनाएं चला रही हैं. इसके चलते ही पंजाब सरकार की तरफ से महिलाओं को मछली पालन करने के लिए सब्सिडी प्रदान की जा रही है. आइए आपको इस संबंध में पूरी जानकारी देते हैं.

इसी कड़ी में पंजाब सरकार द्वारा प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अधीन महिलाओं के लिए 60 प्रतिशत सब्सिडी दी जाएगी. इस सब्सिडी का लाभ सभी वर्गों से संबंधित महिलाएं उठा सकती हैं. यह लाभ साल 2021 से 2025 तक मिलेगा. 

बता दें कि यह जानकारी डायरेक्टर और वार्डन मछली पालन (Fish Farming) पंजाब डा. मदन मोहन ने फिशरी डे के समागम दौरान दी गई है.

मछली पालन करना है लाभदायक (Fishing is profitable)

आपको बता दें कि मछली पालन (Fish Farming) का बिजनेस एक लाभदायक कारोबार है, जिसको आम महिलाएं तक पहुंचाने के लिए पंजाब सरकार द्वारा 60 प्रतिशत सब्सिडी देने की व्यवस्था की गई है.

ये खबर भी पढ़ें: Bioflox Technology: मछली पालन की बेहतरीन तकनीक, जिसमें कर सकते हैं कई प्रजातियों का पालन

बता दें कि राज्य सरकार ने मछली पालकों व मछली विक्रेताओं के लिए बीमा योजना में भी रिस्क रकम में बढ़ोतरी की है. इसके लिए किसान खेतीबाड़ी के साथ मछली पालन (Fish Farming) को भी जरूर अपनाएं. इसके साथ ही नई सुविधाओं का लाभ भी जरूर प्राप्त करें.

कैसे मिलेगी सब्सिडी? (How to get subsidy?)

आप मछली पालन (Fish Farming) से संबधित जानकारी और सब्सिडी के लिए विभाग से संपर्क कर सकते हैं. इस तरह महिलाएं भी मछली पालन कर आत्मनिर्भर बन सकेंगी.

English Summary: Women are getting 60 percent subsidy for fish farming

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters