Government Scheme

मोदी सरकार का बड़ा तोहफा किसानों को मिलेगी 24 लाख की सब्सिडी

मोदी सरकार ने किसानों के भले के लिए के साथ -साथ कृषि क्षेत्र को आगे बढ़ाने के लिए एक योजना बनाई है. जिससे ज्यादा से ज्यादा किसानो को इससे लाभ मिलेगा. इस स्कीम द्वारा किसान कृषि मशीनरी बैंक (Agriculture machinery bank ) बनाकर छोटे किसानों को किराए पर मशीन देकर अच्छा- ख़ासा पैसा कमा सकते हैं. इस योजना के अंतर्गत जो व्यक्ति मशीनरी बैंक के लिए मशीनें खरीदेंगे उस पर सरकार 24 लाख रुपए तक की सब्सिडी प्रदान करेगी.

इस योजना का मुख्य मकसद यही है कि इन कृषि मशीनों द्वारा  खेती को आसान बनाना और कम लागत में उत्पादन बढ़ाना है. इसके जरिये किसान का समय के साथ -साथ पैसा भी बचेगा. इस योजना को आगे बढ़ाने के लिए मोदी सरकार राज्यों को अच्छा फंड भी दे रही है. अगर आप भी इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते है तो आपको अपने राज्य के कृषि विभाग के इंजीनियरिंग विभाजन में संपर्क करना पड़ेगा.

कस्टम हायरिंग सेंटर Custom Hiring Center

अगर आप अपना कस्टम हायरिंग सेंटर बनाते है तो उस पर सरकार 40 प्रतिशत तक पैसा खुद लगाएगी. इसके अंतर्गत आप  करीब 60 लाख रुपए तक का प्रोजेक्ट पास करवा सकेंगे. जिसमें आप अपने क्षेत्र के किसानों की जरुरतों के हिसाब उतने रकम की मशीनें खरीद सकते है. जिसमें 40 फीसदी पैसा यानी 24 लाख रुपए सरकार प्रदान करेगी.

कैसे शुरू कर सकते है- कृषि मशीनरी बैंक How to start Agriculture Machinery Bank

आप अपना कॉपरेटिव ग्रुप बनाकर भी कस्टम मशीन बैंक खोल सकते हैं. लेकिन आप इस ग्रुप में केवल 7  से 8 किसान को ही जोड़ सकते है. इस ग्रुप में ज्यादातर 10 लाख रुपए का ही प्रोजेक्ट पास किया जाएगा. जिसमें आपको  8  लाख रुपए तक की सब्सिडी सरकार प्रदान करेगी. अभी तक हमारे देश में लगभग 20  हजार कृषि यंत्र बैंक खुल चुके हैं. जिससे लोगों को फायदा भी हो रहा है.

हमारे देश में 90 प्रतिशत से ज्यादा गरीब किसान हैं जिनके पास पर्याप्त जमीन नहीं है और उनकी आर्थिक स्थिति भी इतनी अच्छी नहीं है कि वे महंगे आधुनिक कृषि यंत्र खरीद सकें. जिस वजह से सरकार ने ये कदम उठाया है. ताकि वे हमारे देश के कृषि क्षेत्र को आगे बढ़ा सके और किसानों की जिंदगी बदल सके.

इसमें आरक्षण होगा लागू

इस योजना में कुल लाभार्थियों में 30 फीसदी महिलाएं रहेंगी और 50 फीसदी लघु एवं सीमांत किसान को इसका लाभ मिलेगा. इसके साथ ही 16 फीसदी अनुसूचित जाति के किसानों को और 8 फीसदी जनजाति वालों के लिए.

इन आधुनिक मशीनों की बढ़ती मांग

कृषि क्षेत्र में इन आधुनिक मशीनों की बढ़ रही है मांग- जैसे -ट्रैक्टर, जीरो टिल सीड कम फर्टिलाइजर ड्रिल, कंबाइन हार्वेस्टर, लेजर लैंड लेवलर, रोटावेटर,  मल्टीक्रॉप थ्रेशर, फर्टिलाइजर ड्रिल, एक्सियल फ्लो पैडी थ्रेशर, पैडी राइस ट्रांसप्लांटर आदि.



Share your comments