आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे

गोधन न्याय योजना के तहत राज्य सरकार खरीदेगी गोबर, किसान और पशुपालक को मिलेगा अच्छा मुनाफ़ा

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
cow

छत्तीसगढ़ सरकार गौ-पालन के लिए खास योजना लेकर आई है, जिसके द्वारा किसान औऱ पशुपालक की आर्थिक स्थिति को भी मजबूत बनाया जाएगा. इसके साथ ही खुले में चराई पर रोकथाम, सड़कों और शहरों में आवारा घूमते पशुओं पर रोकथाम, पर्यावरण को सुरक्षित रखने में मदद मिल पाएगी. इसके लिए गोधन न्याय योजना का ऐलान किया गया है. इसकी शुरूआत राज्य में हरेली पर्व के शुभ दिन से होगी. इन दिन से किसानों और पशुपालकों से गोबर निर्धारित दर पर खरीदा जाएगा. इस योजना के जरिए गांवों में रोजगार के अवसर भी प्रदान हो पाएंगे.   

क्या है गोधन न्याय योजना

छत्तीसगढ़ राज्य में खुले में चराई की परंपरा रही है. इससे किसान की फसलों को काफी नुकसान होता है. इसके साथ ही सड़क दुर्घटनाएं भी होती है कई पशुपालक दूध निकालने के बाद पशुओं को खुला छोड़ देते हैं. इस स्थिति में सुधार लाने के लिए इस योजना को लागू किया गया है. इस योजना के तहत पशुपालक अपने पशुओं के चारे-पानी का प्रबंध कर पाएंगे, साथ ही उन्हें बांधकर रखेंगे. इससे उन्हें गोबर प्राप्त होगा, जिसे वह सरकार को बेचकर आर्थिक लाभ कमा पाएंगे.

gobar

किसान और पशुपालकों को आर्थिक लाभ

  • राज्य में गौपालन को बढ़ावा मिल पाएगा.

  • पशुओं की सुरक्षा हो पाएगी.

  • पशुपालकों को आर्थिक रूप से लाभ मिल पाएगा.

  • ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी.

  • गांवों में पशुधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए गौठानों का निर्माण होगा.

  • राज्य के 2200 गांवों में गौठानों का निर्माण हो चुका है.

  • इसके साथ ही 2800 गांवों में गौठानों का निर्माण किया जा रहा है.

  • बड़ी मात्रा में वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण भी महिला स्व-सहायता समूहों के जरिए शुरू किया गया है.

ये खबर भी पढ़ें: मुद्रा शिशु योजना के तहत मिल रहा बिना गारंटी 50 हजार रुपए का लोन, जल्द उठाएं इस मौके का फायदा

scheme

गोबर खरीदने की दर होगी निर्धारित

गोधन न्याय योजना के तहत किसानों और पशुपालकों से गोबर खरीदा जाएगा. इसके लिए दर निर्धारित की जाएगी. यह दर कृषि एवं जल संसाधन मंत्री द्वारा तय की जाएगी. इस योजना को पूरी तरह से आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लागू किया गया है. इससे अतिरिक्त आमदनी होगी, साथ ही रोजगार के अवसर भी मिलेंगे. खास बात है कि किसान वर्मी कम्पोस्ट के जरिए जैविक खेती कर पाएंगे. इस योजना के जरिए तैयार होने वाली वर्मी कम्पोस्ट खाद की बिक्री सहकारी समितियों के माध्यम से की जाएगी.

ये खबर भी पढ़ें:Pension Scheme: परिवार पहचान पत्र पोर्टल से जुड़ी 3 तीन सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाएं, हर महीने मिलते हैं 2,250 रुपए

English Summary: Government of chhattisgarh Godhan naye scheme under the farmer and herders will buy cow dung

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News